S M L

जब उपराष्ट्रपति ने मंत्रियों से कहा, 'विनती' मत कहिए, हम स्वतंत्र हैं

शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन जब मंत्री दस्तावेजों को सदन के पटल पर रख रहे थे तो नायडू ने कहा कि वह सदन को एक सुझाव देना चाहते हैं

Bhasha Updated On: Dec 15, 2017 03:37 PM IST

0
जब उपराष्ट्रपति ने मंत्रियों से कहा, 'विनती' मत कहिए, हम स्वतंत्र हैं

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने राज्यसभा के सभापति के रूप में सदन संचालन के अपने पहले दिन मंत्रियों और सदस्यों को एक सुझाव देते हुए कहा कि उन्हें सदन के पटल पर कागजात एवं रिपोर्ट पेश करते हुए 'विनती' जैसे औपनिवेशिक शब्दों के प्रयोग से बचना चाहिए.

शुक्रवार को शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन जब मंत्री दस्तावेजों को सदन के पटल पर रख रहे थे तो नायडू ने कहा कि वह सदन को एक सुझाव देना चाहते हैं कि दस्तावेज रखते समय किसी को भी इन शब्दों का प्रयोग नहीं करना चाहिए, 'मैं विनती करता हूं.' उन्होंने कहा, 'बस यही कहिए कि मैं दस्तावेज सदन के पटल पर रखने के लिए खड़ा हुआ हूं.' उन्होंने कहा, 'विनती करने की जरूरत नहीं... यह स्वतंत्र भारत है.' नायडू ने कहा कि यह उनका सुझाव है, आदेश नहीं.

सभापति ने दिवंगत पूर्व सदस्यों के योगदान का उल्लेख अपने स्थान पर खड़े होकर किया. उनके पूर्ववर्ती हामिद अंसारी और भैरों सिंह शेखावत प्राय: ऐसे उल्लेखों को अपने स्थान पर बैठ कर ही पढ़ते थे. लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन भी इस तरह के श्रद्धांजलि उल्लेखों को अपने स्थान पर खड़े होकर ही पढ़ती हैं. नायडू इस वर्ष अगस्त में भारत के उपराष्ट्रपति और राज्यसभा के सभापति बने थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi