विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

दिवाली मिलन: 'मीडिया को रचनात्मक रोल निभाना चाहिए'

पीएम ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि देश का मीडिया इतना बड़ा योगदान दे सकता है और इतने व्यापक तौर पर अपनी भूमिका निभा सकता है. इसका अंदाजा स्वच्छ भारत अभियान से लगाया जा सकता है

FP Staff Updated On: Oct 28, 2017 04:05 PM IST

0
दिवाली मिलन: 'मीडिया को रचनात्मक रोल निभाना चाहिए'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को दिवाली मिलने समारोह में देश भर के पत्रकारों से मिले. यहां पीएम ने देश भर से आए पत्रकारों से लोकतंत्र में रचनात्मक भूमिका निभाने के लिए कहा.

बीजेपी हेडक्वार्टर में पत्रकारों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा 'मीडिया को लोकतंत्र में रचनात्मक रोल निभाना चाहिए.' वहीं इस मौके पर पीएम ने मीडिया की खूब तारीफ भी की.

पीएम ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि देश का मीडिया इतना बड़ा योगदान दे सकता है और इतने व्यापक तौर पर अपनी भूमिका निभा सकता है. ये हमने स्वच्छ भारत अभियान में देखा. भारत जैसे देश में मीडिया का मिशन मोड में जुट जाना, एक बड़ी बात है.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि आज पुराने दिनों की यादें ताजा हो गईं. पहले ऐसा समय था कि पत्रकारों को खोजना पड़ता था, लेकिन आज मीडिया का दायरा बढ़ गया है.

पीएम ने इस दौरान स्वच्छता अभियान में मीडिया की भूमिका की जमकर तारीफ की और कहा कि भले ही सरकार की आलोचना से अखबार भरा पड़ा हो लेकिन स्वच्छता की बात पर सभी एक साथ नजर आए. यह काफी अच्छी बात है.

New Delhi: Prime Minister Narendra Modi addressing during the Deepawali Mangal Milan programme at BJP headquarters in New Delhi on Saturday. PTI Photo by Atul Yadav(PTI10_28_2017_000063B)

आगे बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि राजनीतिक दल में लोकतंत्र विकसित हो ये देश के लिए बहुत आवश्यक है. ये देश के स्वस्थ लोकतंत्र के लिए बहुत जरूरी है. स्वस्थ लोकतंत्र के लिए इसका डिबेट का हिस्सा बनना बहुत जरूरी है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि हर व्यक्ति के दिल में देश के लिए कुछ करने की इच्छा है. मीडिया के माध्यम लगातार बढ़ रहे हैं. पहले इस बिरादरी में संख्या में बहुत कम हुआ करती थी. पहले पांच सात लोगों से निकटता बना ली, तो काम चल जाता था. कई प्रकार के माध्यम जुड़े हैं, तो ये राजनीतिक पार्टियों के लिए भी चुनौती है. हमारे देश में सरकारों की चर्चा होती है, तो ये हो कि दलों की कमियों पर भी मंथन हो.

मोदी ने कहा कि इरादों में कोई समस्या नहीं है. बहुत बार अपनापन उपकारक सिद्ध होता है. वो एक अलग ही व्यक्तिगत आनंद का माहौल होता है. प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों तरफ बहुत अपेक्षाएं रहती हैं और हमें इसी में मिलते जुलते रहना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi