S M L

एमसीडी चुनाव 2017: राहुल गांधी क्या करें क्या न करें के बीच में फंस गए

कांग्रेस पार्टी की आंतरिक लड़ाई ने कांग्रेसी आलाकमान के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं

Updated On: Mar 29, 2017 05:20 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
एमसीडी चुनाव 2017: राहुल गांधी क्या करें क्या न करें के बीच में फंस गए

दिल्ली नगर निगम चुनाव में टिकटों को लेकर बीजेपी के बाद अब कांग्रेस में भी घमासान शुरू हो गया है. कांग्रेस में भी बगावती सुर उठने लगे हैं. कांग्रेस पार्टी के नाराज कार्यकर्ताओं ने पार्टी प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

अपनों को टिकट नहीं दिला पाने से नाराज कांग्रेस के कई पूर्व सांसद, विधायक और पार्टी के विभिन्न मोर्चों के नेताओं ने राहुल गांधी से मिलकर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के नेताओं की शिकायत की है. ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी में उठे ताजा विवाद की वजह से ही उम्मीदवारों की घोषणा होने में देरी हो रही है.

पार्टी नेताओं का विरोधी स्वर प्रखर

कांग्रेस पार्टी ने एक तरफ तो अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कर दी है. चेट पर चर्चा या फेसबुक लाइव के जरिए कांग्रेसी नेता जनता से मुखातिब हो रहे हैं तो दूसरी तरफ पार्टी नेताओं का विरोधी स्वर प्रखर होने लगे हैं.

17626216_1381500008575564_516654518353196562_n

नगर निगम की अधिसूचना जारी हुए दो दिन से भी ज्यादा हो गए हैं, लेकिन कांग्रेस ने अब तक एक भी उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की है. कांग्रेस पार्टी की आंतरिक लड़ाई ने कांग्रेसी आलाकमान के लिए मुश्किलें खड़ी कर दी हैं.

पूर्व सांसद, पूर्व विधायक या फिर पार्टी के अंदर विभिन्न मोर्चों के अध्यक्ष ने अपने-अपने समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं. जब इन नेताओं की बात को आजय माकन ने अनसुना कर दिया तो इन लोगों ने खुल कर विरोध करना शुरू कर दिया है.

टिकट बांटने को लेकर पार्टी में भेदभाव 

महिला कांग्रेस और युथ कांग्रेस ने भी टिकट बांटने को लेकर पार्टी पर भेदभाव का आरोप लगाया है. दिल्ली यूथ कांग्रेस ने भी कई कार्यकर्ताओं की लिस्ट पार्टी को सौंपी है. वहीं दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष बरखा सिंह ने भी अपने कई समर्थकों की लिस्ट पार्टी को सौंपी है.

बीजेपी के वर्तमान पार्षदों को कांग्रेस में शामिल करने को लेकर भी विरोध शुरू हो गए है. पार्टी के नेताओं का कहना है जिस पार्षदों को बीजेपी ने ही नकार दिया है वैसे पार्षदों को कांग्रेस में क्यों शामिल करवाया जा रहा है.

यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित मलिक फर्स्ट पोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहा कि, 'हमारे यहां एक सिस्टम है. हमारे यूथ कांग्रेस के तरफ से जो लिस्ट जाती है वह राहुल गांधी जी के ऑफिस से होकर ही जाती है. हमारे संगठन के इंचार्ज राहुल गांधी ही हैं. राहुल गांधी ने हम लोगों को एक साल पहले ही कहा था कि एमसीडी चुनाव में आप लोगों को टिकट देंगे. क्योंकि, हम लोग अजय माकन से टिकट के बारे में सीधे बात नहीं कर सकते थे इसलिए राहुल गांधी से मिल कर अपनी बात रखी है.’

NEW DELHI, INDIA APRIL 06: Congress Vice President Rahul Gandhi with DPCC President Ajay Maken during a protest rally organised by members of All India Bullion Jewellers and Swarnkar Federation against the proposed hike in excise duty on jewellery at Jantar Mantar in New Delhi.(Photo by Parveen Negi/India Today Group/Getty Images)

उन्होंने कहा कि, ‘हम लोगों ने राहुल गांधी जी से बीजेपी के पार्षदों को टिकट नहीं दिए जाने की भी बात की है. हम लोगों ने राहुल गांधी को कहा है कि जिसे उसकी पार्टी ने रिजेक्ट कर दिया है वैसे लोगों को हमारी पार्टी में कोई जगह नहीं होनी चाहिए.’

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को तय करना है कि वह अजय माकन की बात मानें या फिर संगठन के और नेताओं की बात मानें. एक तरफ जहां कांग्रेस के नेताओं ने बीजेपी पार्षदों का टिकट देने का विरोध शुरू कर दिया है तो दूसरी तरफ जीताऊ उम्मीदवार के नाम पर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस बीजेपी पार्षदों को पार्टी में शामिल करा रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi