S M L

नोटबंदी के कारण देश 20 साल पीछे चला गया: ममता

राहुल गांधी और ममता बनर्जी ने प्रेस कांफ्रेंस में केंद्र सरकार पर जोरदार हमला किया.

Updated On: Dec 27, 2016 08:06 PM IST

FP Staff

0
नोटबंदी के कारण देश 20 साल पीछे चला गया: ममता

कांग्रेस द्वारा बुलाई गई विपक्ष की संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस से अधिकांश विपक्षी पार्टियां गायब रहीं. सभी विपक्षी दलों ने इसकी अलग-अलग वजहें बताईं.

फिर भी राहुल गांधी और ममता बनर्जी ने इस प्रेस कांफ्रेंस में सरकार पर जोरदार हमला किया. ममता ने कहा कि नोटबंदी आजादी के बाद का सबसे बड़ा घोटाला है.

ममता का हमलावर अंदाज

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ममता हमलावर अंदाज में दिखीं. उन्होंने कहा कि 30 दिसंबर के बाद अगर स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो क्या पीएम मोदी इस्तीफा देंगे?

MamtaBanerjee

टीएमसी सुप्रीमो ने कहा कि नोटबंदी के नाम पर पूरे देश को लूटा गया. नोटबंदी की सबसे ज्यादा मार गरीबों पर पड़ी. अच्छे दिन के नाम पर किसान, मजदूर और छोटे कारोबारियों को लूटा जा रहा है.

ममता ने कहा कि नोटबंदी के कारण देश 20 साल पीछे चला गया है. नोटबंदी के कारण पूरा देश बेहाल है. लोगों के पास खाने तक के पैसे नहीं हैं.

देश में इमरजेंसी नहीं बल्कि सुपर इमरजेंसी की स्थिति है. सरकार अपने खिलाफ बोलने वाले लोगों को डरा रही है.

ममता बनर्जी ने सरकार की मंशा पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि सारे रुपए तो बैंक में जमा हो गया. फिर काला धन कहां गया?

नोटबंदी के मसले पर विभाजित दिख रहे विपक्ष का बचाव करते हुए ममता ने कहा कि हमारी अन्य पार्टियों से भी बातचीत चल रही है. ममता बनर्जी ने कहा कि नोटबंदी पर सरकार के खिलाफ उनके साथ कई पार्टियां हैं. लालू यादव से भी उनकी बात हुई है.

केंद्र सरकार पर हमला करते हुए ममता ने कहा कि नोटबंदी की वजह से बैंकिंग व्यवस्था ठप हो गई है. कैशलेस के नाम पर मोदी सरकार ने देश को बेसलेस कर दिया है. 3 दिन में 50 दिन पूरे होने वाले हैं. उसके बाद हम प्रधानमंत्री से पूछेंगे कि क्या हुआ?

नोटबंदी से बढ़ा है भ्रष्टाचार 

राहुल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि नोटबंदी की वजह से भ्रष्टाचार और कालेधन में कोई कमी नहीं आई है. बल्कि नोटबंदी ने भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है.

demonetisation

30 दिसंबर आने वाला है और देश की स्थिति जस की तस बनी हुई है. नोटबंदी से सिर्फ आम लोगों को परेशानी हुई है. आज नोटबंदी के कारण देश में सबसे अधिक बेरोजगारी है.

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि नोटबंदी करके प्रधानमंत्री मोदी अपने कुछ बड़े दोस्तों की मदद कर रहे हैं. वे गरीबों का पैसा लेकर अमीरों को दे रहे हैं. राहुल गांधी ने पूछा कि प्रधानमंत्री बताएं कि नोटबंदी के पीछे उनका क्या लक्ष्य था?

राहुल ने सरकार पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि मोदी बेनामी संपत्ति के पीछे क्यों नहीं जा रहे हैं. स्विस बैंक के पीछे क्यों नहीं जा रहे हैं. कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि सरकार को स्विस बैंक के खाताधारियों के नाम संसद में उजागर करना चाहिए. उन्होंने कहा कि लंदन में बैठे ललित मोदी और विजय माल्या को भी भारत लाया जाना चाहिए.

rahul gandhi

राहुल ने फिर उठाया सहारा डायरी का मामला

राहुल गांधी ने एक बार से सहारा डायरी की के मामले को उठाया. उन्होंने कहा कि जैन डायरी मामले में हमारे मंत्रियों ने इस्तीफा दिया. सहारा डायरी केस में ऐसा क्यों नहीं हुआ?

उल्लेखनीय है कि सहारा डायरी में शीला दीक्षित का भी नाम शामिल है. राहुल गांधी ने इस पर कहा कि जब शीला दीक्षित जांच को तैयार हैं तो पीएम मोदी क्यों नहीं जांच के लिए तैयार हैं.

राहुल गांधी ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग को लेकर गंभीर हैं तो उन्हें इस मामले की जांच करवानी चाहिए. उन्होंने कहा कि सहारा डायरी के आरोपों पर मोदी क्यों नहीं बोल रहे हैं.

उन्होंने कहा कि हम भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग में पीएम के साथ है. पीएम को इस्तीफा देकर मिसाल पेश करनी चाहिए.

बीजेपी ने किया पलटवार 

बीजेपी की तरफ से इस प्रेस कांफ्रेंस का पर पलटवार किया गया. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी के आरोप बेबुनियाद हैं. सहारा डायरी के केस को खुद सुप्रीम कोर्ट देख रहा है.

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी स्विस बैंक के खाताधारियों के नामों को उजागर करने की मांग करके उनकी ही मदद कर रहे हैं. बीजेपी नेता ने कहा कि इन नामों के उजागर होने से स्विस सरकार जांच में हमारी मदद करना बंद कर देगी.

RAVI SHANKAR PRASAD

उन्होंने कहा कि नोटबंदी पर जनता एनडीए के साथ है. हम ईमानदारी से काम कर रहे हैं, करते रहेंगे.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राहुल गांधी में परिपक्वता का अभाव है. कांग्रेस के समय में सबसे अधिक घोटाले हुए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi