S M L

दिल्ली एमसीडी चुनाव 2017: पल-पल बदल रही है पार्टियों की रणनीति

उम्मीदवारों-दावेदारों के इधर-उधर होने का सिलसिला जारी है.

Updated On: Mar 24, 2017 04:28 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
दिल्ली एमसीडी चुनाव 2017: पल-पल बदल रही है पार्टियों की रणनीति

दिल्ली एमसीडी चुनाव में बीजेपी के वर्तमान पार्षदों का टिकट नहीं देने के फैसले ने दूसरे पार्टियों के घोषित उम्मीदवारों की भी नींद उड़ा दी है. आम आदमी पार्टी (आप) के 14 उम्मीदवारों के टिकट काटने के फैसले को भी इसी कड़ी से जोर कर देखा जा रहा है.

बीजेपी और कांग्रेस के संभावित प्रत्याशियों की नराजगी का आप पूरा फायदा उठाना चाहती है. पार्टी के रणनीतिकार बीजेपी के उन पार्षदों के संपर्क में हैं, जिनकी छवि साफ-सुथरी है. आप के सूत्र कहते हैं कि अगले कुछ दिनों में पार्टी के घोषित दूसरे उम्मीदवारों के नाम भी काटे जा सकते हैं.

आप की नजर बीजेपी के 50 पार्षदों पर

आप के रणनीतिकारों की सबसे गहरी दिलचस्पी बीजेपी के 50 उन पार्षदों पर टिकी है, जिनकी छवि साफ-सुथरी है. इन पार्षदों का अपने इलाके में काफी वर्चस्व भी है. इन 50 पार्षदों में ज्यादातर पार्षद महिला बताई जा रही हैं.

आप के रणनीतिकार फिलहाल इस इंतजार में हैं कि बीजेपी और कांग्रेस उन उम्मीदवारों को टिकट देती है कि नहीं. हालांकि आप की इस रणनीति में पार्टी को नुकसान भी उठानी पड़ सकती है. जिन घोषित उम्मीदवारों का टिकट काटे जा रहे हैं वह पार्टी से बागी होते जा रहे हैं.

AAP3

आप में घोषित उम्मीदवारों का टिकट कटने का खेल शुरू

दिल्ली के मंगलापुरी वार्ड एस-33 से घोषित उम्मीदवार विजय पवाड़िया का टिकट आप ने काट दिया है. आप ने विजय पावाड़िया का टिकट पार्टी द्वारा घोषित पहले लिस्ट में ही दिया था. लेकिन, अब इस सीट से आप के नए प्रत्याशी नरेंद्र कुमार चुनाव लड़ रहे हैं.

आम आदमी पार्टी से टिकट काटे जाने के बाद पवाड़िया काफी निराश हैं. पवाड़िया को समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर पार्टी ने उनका टिकट कैसे काटा. पवाड़िया के अनुसार पार्टी के जिला प्रभारी और पर्यवेक्षक ने अपनी भेजी रिपोर्ट में ऐसा कुछ नहीं बताया था, जिससे मेरी टिकट काटी जा सके.

उम्मीदवारी खत्म होने से नाराज पवाड़िया ने बताया कि पार्टी ने उनके खिलाफ एक एफआईआर का हवाला दे कर टिकट काटा है. यह एफआईआर एक सीवर डालने के मामले से जुड़ा था, जिसमें वर्तमान पार्षद ने ही मेरे खिलाफ मामला दर्ज करवाया था.

टिकट कट जाने के बाद अपने समर्थकों के साथ पहुंचे पवाड़िया ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं पार्टी के खिलाफ मानहानि का केस करने जा रहा हूं. साथ ही चुनाव लड़ कर आप को सबक भी सिखाएंगे.

रणनीतिकारों की नीति पर सवाल

हम आपको बता देना चाहते हैं कि दिल्ली नगर निगम चुनाव में आप ने सबसे पहले अपने उम्मीदवारों की सूची जारी की थी. दूसरी पार्टियों के मुकाबले आप ने सबसे पहले उम्मीदवार उतार कर खूब वाहवाही बटोरी थी. पर अब जिस तरह से पूर्व घोषित उम्मीदवारों के टिकट काटे जा रहे हैं. इससे पार्टी के घोषित उम्मीदवारों में भी असमंजस का माहौल हो गया है.

पार्टी के कई घोषित उम्मीदवार अपनी सीट बचाने के लिए नेताओं की गणेश परिक्रमा में लग गए हैं. उम्मीदवारों के इस गणेश परिक्रमा से पार्टी को खामियाजा भी भुगतने पड़ सकते हैं.

दूसरी तरफ आप नेता दिलीप पांडे मीडिया से बात करते हुए कहते हैं कि नामांकन होने तक किसी भी उम्मीदवार का नाम वापस लिया जा सकता है. पार्टी की पूरी कोशिश है कि विपक्षी दलों को किस तरह से हराया जा सके. ऐसे में ईमानदार और जीतने का दम रखने वाले को ही पार्टी की उम्मीदवारी मिलेगी.

साफ छवि के उम्मीदवारों पर सबकी नजर

दूसरी तरफ बीजेपी द्वारा वर्तमान पार्षदों का टिकट नहीं देने के फैसले को लेकर पार्षद अब सड़क पर उतर गए हैं. पार्टी के नाराज कई पार्षद दिल्ली में कई केंद्रीय मंत्रियों और सांसदों के घरों का चक्कर काट रहे हैं. इसके बावजूद भी उनको किसी तरह का आश्वासन नहीं मिल रहा है.

पटपड़गंज से बीजेपी पार्षद संध्या वर्मा पिछले दिनों केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलने गई थीं. लेकिन, जब मिल कर बाहर निकलीं तो मीडिया के सामने ही संध्या वर्मा की आंखें भर आई. ऐसे में माना जा रहा है कि संध्या वर्मा की साफ-सुथरी छवि को आप और कांग्रेस दोनों भुनाने की तैयारी में है.

Sandhya-Varma

दूसरी तरफ बीजेपी रणनीतिकार को यह लग रहा है कि 10 सालों से निगम की सत्ता पर काबिज बीजेपी को एंटी इनकम्बेंसी से बचने के लिए यह रास्ता ही एकमात्र विकल्प है.

बीजेपी से हटने और आप से जुड़ने का सिलसिला शुरू

सुल्तानपुरी ईस्ट वार्ड से दो बार की बीजेपी पार्षद रही सुशीला बागड़ी के पिता ने बीजेपी की सदस्यता से इस्तीफा दे कर आप की सदस्यता हासिल कर ली है. आम आदमी पार्टी ने सुशीला बागड़ी के पिता को सुल्तानपुरी बी वार्ड से टिकट भी दे दिया है.

सुशीला बागड़ी बीजेपी के साथ देने के बजाए अपने पिता का साथ देने की बात करती है. सुशीला बागड़ी का कहना है कि माता-पिता से बढ़कर कोई नहीं है. बागड़ी का कहना है कि बीजेपी अगर निकालना चाहे तो निकाल दे पर मैं पिता का ही साथ दूंगी.

सुशीला बागड़ी के पिता नंदराम बागड़ी सुल्तानपुरी इलाके के काफी चर्चित चेहरा हैं. नंदराम बागड़ी इस इलाके से कई विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं. हलांकि, नंदराम को सभी विधानसभा चुनावों में हार का मुंह देखना पड़ा.

नंदराम ने साल 2007 और साल 2012 में कांग्रेस के इस गढ़ में सेंध लगाते हुए बीजेपी के टिकट पर अपनी बेटी को पार्षद का चुनाव जीता दिया. यह पहला अवसर था जब किसी चुनाव में बीजेपी यहां से जीत हासिल की थी. साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी पार्षद सुशीला बागड़ी को सुल्तानपुरी माजरा से बीजेपी उम्मीदवार भी बनाया गया था.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi