S M L

एमसीडी चुनाव: आप का चुनाव प्रचार दूसरी पार्टियों के मुकाबले ज्यादा तेज

दिल्ली में पहली बार एमसीडी चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी हर रोज एक से डेढ़ लाख लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Mar 23, 2017 12:58 PM IST

0
एमसीडी चुनाव: आप का चुनाव प्रचार दूसरी पार्टियों के मुकाबले ज्यादा तेज

दिल्ली की दो सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टियां कांग्रेस और बीजेपी अभी तक अपने उम्मीदवारों के नामों पर कोई फैसला नहीं कर पाई है.

पहली बार चुनाव लड़ने वाली स्वराज इंडिया पार्टी सभी उम्मीदवारों को एक सिंबल देने की मांग को लेकर हाईकोर्ट पहुंच गई है. ऐसे में आम आदमी पार्टी ने लगभग अपने सभी उम्मीदवारों के नामों का एलान कर चुनाव प्रचार में तेजी ला दी है.

गली-मोहल्ले से चौक-चौराहे तक चुनाव की गूंज

23 अप्रैल को होने जा रहे एमसीडी चुनाव में आम आदमी पार्टी, बीजेपी और कांग्रेस के साथ छोटी पार्टियां भी प्रचार अभियान में जुट गई है. दिल्ली के गली-मोहल्ले में एमसीडी चुनाव की गूंज सुनने को मिल रही है.

आम आदमी पार्टी और स्वराज इंडिया पार्टी नुक्कड़-नाटक और प्रोजेक्टर शो के जरिए लोगों तक अपनी बात पहुंचा रही है. पार्टियों के द्वारा यह अभियान दिल्ली के अनियमित कॉलनियों से लेकर व्यस्त इलाकों में भी किए जा रहे हैं.

आप के चुनाव प्रचार में अरविंद केजरीवाल चेहरा बने

दिल्ली में पहली बार एमसीडी चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी हर रोज एक से डेढ़ लाख लोगों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है. पार्टी ने लगभग सभी सीटों पर अपने उम्मीदवारों का चयन कर लिया है.

आम आदमी पार्टी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में प्रोजेक्टर के जरिए अरविंद केजरीवाल का संदेश दिखा रही है. आप द्वारा दिखाए जा रहे वीडियो संदेश में सरकार की उपलब्धियों को गिनाया जा रहा है. वीडियो संदेश में पिछले 10 सालों में बीजेपी शासित एमसीडी और उसके पार्षदों पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं.

aap

आप की पदयात्रा और डोर-टू-डोर कैंपेन

आप के कई नेताओं ने दिल्ली में पदयात्रा की यात्रा की शुरुआत भी कर दी है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया खुद दिल्ली के विभिन्न इलाकों में लगातार पदयात्रा कर रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल भी दिल्ली में जगह-जगह सभाएं कर रहे हैं. आप की कोशिश है कि हर शो के जरिए ज्यादा से ज्यादा लोगों तक केजरीवाल का संदेश पहुंचाया जा सके. वहीं पार्टी के तमाम विधायक और पार्टी के पदाधिकारी डोर टू डोर प्रचार कर रहे हैं.

पांडव नगर में आप के कार्यकर्ता राहुल कुमार फर्स्ट पोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहते हैं, ‘जब लड़ाई प्रतिष्ठा की हो तो चुनाव प्रचार भी युद्ध स्तर तक पहुंच जाता है. हमारी पार्टी ने वोलेंटियरों की एक जबरदस्त टीम तैयार की है. सब कुछ रणनीति और प्लान के हिसाब से हो रहा है.’

वहीं पांडव नगर में ही रहने वाले पप्पू कुमार उर्फ निराला फर्स्ट पोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहते हैं, ‘मैं पिछले 17 सालों से पार्टी के लिए काम कर रहा हूं. साल 2014 में पीएम नरेंद्र मोदी जी के लिए भी हमने जगह-जगह स्क्रीन लगा कर चाय पर चर्चा कराया. इस बार के एमसीडी चुनाव में मैंने भी पांडव नगर मंडल सीट से टिकट की दावेदारी की है.

लेकिन, अभी तक किसी प्रकार का आश्वासन नहीं मिला है. पार्टी द्वारा अभी तक टिकट पर कोई फैसला नहीं लिए जाने से कार्यकर्ताओं के उत्साह में कुछ कमी जरूर आई है, पर जैसे ही उम्मीदवार तय हो जाएंगे हमारी पार्टी की भी चुनाव अभियान में तेजी आ जाएगी.’

जानकार मानते हैं कि साल 2017 के एमसीडी चुनाव में और पार्टियों के मुकाबले आप को थोड़ा ज्यादा माइलेज मिलता दिख रहा है. कांग्रेस और बीजेपी भी धीरे-धीरे चुनाव प्रचार में तेजी ला रही है.

बीजेपी ने भी आप पर हमले हमले तेज किए

bjp

पिछले दिनों दिल्ली बीजेपी की एक टीम आम आदमी पार्टी द्वारा आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत को लेकर राज्य के चुनाव आयुक्त से भी मिला है.

दिल्ली बीजेपी अभय वर्मा, फर्स्ट पोस्ट हिंदी से बात करते हुए कहते हैं, ‘हमारी पार्टी काफी पुरानी पार्टी है. हमलोग पार्टी के बैनर पर चुनाव लड़ते हैं. हमारे लिए उम्मीदवार महत्वपूर्ण नहीं होते हैं. हमारे लिए पार्टी का सिंबल महत्वपूर्ण होता है. हमारी जो तैयारी है उसके टक्कर में कोई भी पार्टी कहीं नहीं टिकती है.

हमलोगों ने बूथ प्रबंधन पिछले तीन महीने से लगातार की है. हमने दिल्ली के 13 हजार 746 बूथों पर काम किया है. 25 तारीख को हर बूथ से पांच लोगों को लेकर हमलोग रामलीला मैदान आ रहे हैं. हमारा चुनाव ऑर्गनाइजेशनल सेटअप के आधार पर लड़ा जाता है.’

अभय वर्मा आगे कहते हैं, ‘हमने चुनाव आयोग से आम आदमी पार्टी की शिकायत की है. हमने चुनाव आयुक्त को बताया है कि किस प्रकार आम आदमी पार्टी मोहल्ला क्लीनिक और आम आदमी बस सर्विस के नाम से आप का प्रचार किया जा रहा है.

आप सरकार, सरकारी तंत्र के माध्यम से सरकारी पैसे का दुरुपयोग करने का प्रयास कर रही है. दिल्ली में जगह-जगह बैनर-पोस्टर और सरकारी आउटलेट लगा कर पार्टी का प्रचार किया जा रहा है. जो कि निगम चुनाव में जारी आचार संहिता के विरुद्ध है.’

स्वराज इंडिया पार्टी सिंबल को लेकर पशोपेश में

योगेंद्र यादव: स्वराज इंडिया पार्टी

योगेंद्र यादव: स्वराज इंडिया पार्टी

वहीं एमसीडी चुनाव में कॉमन सिंबल की मांग को लेकर योगेंद्र यादव की अगुवाई वाली स्वराज इंडिया पार्टी हाईकोर्ट पहुंच गई है. स्वराज इंडिया पार्टी ने दिल्ली इलेक्शन कमिशन से मांग की थी कि पार्टी को एक सिंबल दी जाए.

जिस पर दिल्ली इलेक्शन कमिशन ने स्वराज इंडिया पार्टी से कहा था कि उसके पास एक सिंबल देने का अधिकार नहीं है. यह केंद्रीय चुनाव आयोग के अधिकार क्षेत्र की की बात है. स्वराज इंडिया पार्टी अभी गैर मान्यता प्राप्त पार्टी है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Test Ride: Royal Enfield की दमदार Thunderbird 500X

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi