S M L

मनोज तिवारी ने तोड़ी बंद घर की सीलिंग, वीडियो वायरल होते ही बढ़ा विवाद

घर का ताला तोड़ने वाले वीडियो पर मनोज तिवारी ने कहा कि अगर वहीं 1000 घर हैं तो एक घर पर ताला क्यों, वह 'पिक एंड चूज' सिस्टम के खिलाफ हैं इसलिए ताला तोड़ दिया

Updated On: Sep 17, 2018 09:58 AM IST

FP Staff

0
मनोज तिवारी ने तोड़ी बंद घर की सीलिंग, वीडियो वायरल होते ही बढ़ा विवाद

दिल्ली में सीलिंग से आम आदमी और व्यापारी वर्ग की परेशानियां साफ नजर आ रही है. सीलिंग का मुद्दा ऐसा है जिसे लेकर आम आदमी पार्टी, बीजेपी और कांग्रेस हमेशा एक दूसरे की आलोचना करते रहे हैं. इन सबके बीच दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो एक सीलबंद घर का ताला तोड़ रहे हैं. यह घर मनोज तिवारी के संसदीय क्षेत्र पूर्वी दिल्ली के गोकुलपुरी का है. वीडियो सामने आने के बाद से ही दिल्ली की राजनीति फिलहाल गरमा गई है. सीलिंग के मुद्दे को लेकर अब आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर निशाना साधा है.

घर का ताला तोड़ने वाले वीडियो पर मनोज तिवारी का कहना है कि अगर उस इलाके में 1000 घर हैं तो एक घर सील्ड क्यों रहेगा. मैं 'पिक एंड चूज' सिस्टम के खिलाफ हूं इसलिए मैंने ताला तोड़ दिया. मनोज तिवारी ने दावा किया कि 'पिक एंड चूज' यानी कुछ खास घरों या दुकानों को सील करना या तोड़फोड़ करने की नीति गलत है और अब बीजेपी इस नीति के तहत हो रही सीलिंग तोड़फोड़ के खिलाफ आवाज उठाएगी. मनोज तिवारी ने कहा कि पहले कांग्रेस और अब अरविंद केजरीवाल दिल्ली के लोगों को सिलिंग के नाम पर भ्रमित कर रहे हैं. इलाके में इतने सारे घर हैं तो फिर एक घर में ताला कैसे लग सकता है.

वहीं आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस ने इस वीडियो को दिल्ली के बीजेपी शासित नगर निगमों से जोड़ दिया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा है कि नोटबंदी और जीएसटी के बाद अब सीलिंग ने दिल्ली को बर्बाद कर दिया है. उन्होंने ट्वीट किया- ‘ये खुद ही जाकर ताला तोड़ देते हैं. इन्हें क्या लगता है कि लोग बेवकूफ हैं? नोटबंदी, जीएसटी और अब सीलिंग करके बीजेपी ने पूरी दिल्ली को बर्बाद कर दिया है.’

आम आदमी पार्टी सीलिंग का मुद्दा जोर-शोर से उठाए हुए है. वहीं इस मुद्दे पर ‘न्याययुद्ध’ अभियान चला रही कांग्रेस ने प्रभावित लोगों को बचाने में विफल रहने पर मनोज तिवारी समेत बीजेपी सांसदों के इस्तीफे की मांग की है. आपको बता दें कि बीते साल दिसंबर महीने से दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी के दिशा निर्देश पर बड़े पैमाने पर लगातार सीलिंग चल रही है. ऐसे में किसी मकान की सील तोड़ना सीधे-सीधे सुप्रीम कोर्ट की अवमानना का मामला बन सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi