S M L

तेलंगाना: चंद्रशेखर राव के खिलाफ एक हुए कांग्रेस, टीडीपी और वामदल, राज्यपाल को लिखा पत्र

इस पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि राव विधानसभा के विघटन के बाद अपनी संवैधानिक शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं

Updated On: Sep 11, 2018 09:16 PM IST

FP Staff

0
तेलंगाना: चंद्रशेखर राव के खिलाफ एक हुए कांग्रेस, टीडीपी और वामदल, राज्यपाल को लिखा पत्र

तेलंगाना में कांग्रेस, टीडीपी और वामदलों ने केयरटेकर मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन को पत्र लिखा है. इस पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि राव विधानसभा के विघटन के बाद अपनी संवैधानिक शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं. जिसे राज्य के हित में रोका जाना चाहिए.

तीनों पार्टियों ने यह भी आरोप लगाया कि राज्य में तय वक्त से पहले चुनाव कराने के केसीआर के इस फैसले से उनकी पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) सीधे तौर पर लाभान्वित हो रही है. जबकि, केसीआर के इस 'असंवैधानिक' फैसले से विपक्ष पर असर पड़ेगा.

सलाहकारों की नियुक्ति को बताया असंवैधानिक

राज्यपाल को लिखी चिट्ठी में तीनों दलों ने उन बिंदुओं का जिक्र किया है जिनसे कार्यवाहक सीएम चंद्रशेखर राव राज्य में 'राजनीतिक संकट' लाने की कोशिश कर रहे हैं. तीनों पार्टियों ने राज्यपाल को यह भी बताया कि कैसे कार्यवाहक टीआरएस सरकार ने 12 सलाहकारों की नियुक्ति की है. जिनकी फिलहाल कोई जरूरत नहीं थी. इन सलाहकारों को सरकार द्वारा अच्छी तनख्वाह और भत्ते भी दिए जा रहे हैं. इससे जनता के पैसों का दुरुपयोग हो रहा है.

पत्र में लिखा है कैसे कैबिनेट रैंक के कुछ विधायकों को असंवैधानिक रूप से अलग-अलग कॉरपोरेशंस का चेयरमैन बनाया गया हैं. पत्र में इसे असंवैधानिक बताया है. इस पत्र के साथ तीनों पार्टियों ने राज्यपाल से निवेदन किया है कि राज्य में तय समय से पहले चुनाव कराने को लेकर जल्दबाजी में कोई फैसला न लिया जाए.

गुरुवार को भंग कर दी थी विधानसभा

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को कैबिनेट बैठक कर विधानसभा को भंग कर दिया था. इसके साथ ही उन्होंने राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन को अपना इस्तीफा भी सौंपा, जिसे राज्यपाल ने मंजूर भी कर लिया है. राज्यपाल से मुलाकात के बाद केसीआर ने प्रेस कांफ्रेंस की, जिसमें उन्होंने विधानसभा चुनाव के लिए 105 उम्मीदवारों की सूची भी जारी की.

दरअसल, राज्य विधानसभा का कार्यकाल मई 2019 में लोकसभा के साथ पूरा हो रहा. ऐसे में राज्य विधानसभा के चुनाव अगले लोकसभा चुनाव के साथ ही कराया जाना था. लेकिन केसीआर चाहते हैं कि इस साल के आखिर में 4 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के साथ ही तेलंगाना के चुनाव करा लिए जाएं. साल के आखिर में राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में एक साथ विधानसभा चुनाव होने हैं.

2014 में मिली थीं 63 सीटें

बता दें कि मई 2014 में हुए पहले विधानसभा चुनाव में चंद्रशेखर राव की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने 119 सीटों में से 63 जीती थीं. इस बार देखना दिलचस्प होगा कि राव की ओर से 6 सितंबर को विधानसभा भंग करने का फैसला सही साबित होता है या उन्हें इसपर पछताना पड़ेगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi