S M L

कमलनाथ को CM पद से हटाए कांग्रेस, नहीं तो झेलना पड़ेगा सिख समाज का गुस्सा: अकाली दल

अकालीदल ने कमलनाथ को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाए जाने के कांग्रेस के फैसले को सिख विरोधी करार दिया है

Updated On: Dec 17, 2018 01:01 PM IST

Bhasha

0
कमलनाथ को CM पद से हटाए कांग्रेस, नहीं तो झेलना पड़ेगा सिख समाज का गुस्सा: अकाली दल

अकाली दल ने 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दोषी ठहराए जाने के दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत किया है. इसी के साथ अकालीदल ने कमलनाथ को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाए जाने के कांग्रेस के फैसले को सिख विरोधी करार दिया है.

अकाली दल के लोकसभा सदस्य प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने सोमवार को हाई कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा ‘कांग्रेस सिख समाज को यह जवाब दे कि कमलनाथ को कैसे मुख्यमंत्री बना दिया गया जबकि उनके साथी को सिख दंगा मामले में उम्रकैद की सजा सुनायी जा रही है. मैं समझता हूं कि अगर कांग्रेस ने उन्हें मुख्यमंत्री पद से नहीं हटाया तो उसे सिख समाज का गुस्सा झेलना पड़ेगा.’

कांग्रेस पर साधा निशाना

संसद भवन परिसर में चंदूमाजरा ने कहा कि वह अकाली दल की ओर से, सज्जन कुमार पर हाईकोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं. हालांकि यह फैसला ‘देर आए दुरुस्त आए’ है. उन्होंने सिख दंगा मामले पर फैसले में देरी के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा ‘भले ही कांग्रेस ने सत्ता शक्ति से इस सच को दबा कर रखा हो, लेकिन आखिर में जीत सच की ही होती है.’

चंदूमाजरा ने सिख दंगा मामले की अदालती प्रक्रिया में तेजी आने का श्रेय मोदी सरकार को देते हुए कहा कि सरकार द्वारा गठित विशेष जांच दल की सिफारिश पर, बंद कर दिए गए कुछ महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई फिर से शुरु होने के कारण इस मामले में दंगा पीड़ितों को न्याय मिल पाना मुमकिन हुआ है.

गौरतलब है कि दिल्ली हाई कोर्ट ने सोमवार को कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को 1984 के सिख विरोधी दंगा मामले में हत्या की साजिश रचने का दोषी ठहराते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई. अदालत ने कुमार को आपराधिक षड्यंत्र रचने, शत्रुता को बढ़ावा देने, सांप्रदायिक सद्भाव के खिलाफ कृत्य करने का दोषी ठहराया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi