S M L

राष्ट्रवाद पर RSS को ‘ध्वज वंदन’ से टक्कर देगा कांग्रेस का सेवा दल

सेवा दल अपने इस कार्यक्रम में गांधी-नेहरू के सिद्धांतों और 'धर्मनिरपेक्षता, सहिष्णुता और बहुलवादी विचारों' पर आधारित राष्ट्रवाद पर विमर्श शुरू करने का प्रयास करेगा

Updated On: Jun 10, 2018 01:44 PM IST

Bhasha

0
राष्ट्रवाद पर RSS को ‘ध्वज वंदन’ से टक्कर देगा कांग्रेस का सेवा दल

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठनों की ओर से समय-समय पर राष्ट्रवाद को लेकर खड़े किए जाने वाले सवालों की काट के तौर पर कांग्रेस के सेवा दल ने हर महीने के आखिरी रविवार को देश के 1 हजार जिलों/शहरों में ‘ध्वज वंदन’ कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला किया है.

सेवा दल अपने इन 'ध्वज वंदन' कार्यक्रमों में गांधी-नेहरू के सिद्धांतों और 'धर्मनिरपेक्षता, सहिष्णुता और बहुलवादी विचारों' पर आधारित राष्ट्रवाद पर विमर्श शुरू करने का प्रयास करेगा.

हालांकि इस कार्यक्रम को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से मंजूरी मिलने का बाद सेवा दल इसे लेकर आगे बढ़ेगा. सेवा दल संगठन में व्यापक बदलाव की भी तैयारी में है और इसको लेकर उसने एक ब्लूप्रिंट तैयार किया है. सोमवार को इसे राहुल गांधी की मौजूदगी में सार्वजनिक किया जाएगा.

सेवा दल के मुख्य संगठक लालजी भाई देसाई ने बताया, ‘पिछले कुछ वर्षों में सेवा दल पहले की तरह की सक्रिय नहीं रह गया और वो सिर्फ कांग्रेस के कार्यक्रमों के आयोजनों के प्रबंधन तक सीमित रह गया था. हम इसे फिर से मजबूत बनाने का प्रयास कर रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘अब हम राष्ट्रनिर्माण, राष्ट्रसेवा, संगठन निर्माण और पार्टी के मुख्य संगठन के साथ तालमेल बिठाकर काम करने पर जोर देंगे.’ उन्होंने कहा कि अगले 3 महीने में देश के पूर्वी, पश्चिमी, उत्तरी, दक्षिणी और मध्य हिस्सों में प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन किया जाएगा. 11 जून को मणिपुर में ऐसे पहले प्रशिक्षण शिविर का आयोजन होने जा रहा है जिसमें देश के पूर्वी हिस्से के सेवा दल के कार्यकर्ता और पदाधिकारी शामिल होंगे.

लालजी भाई देसाई के अनुसार फिलहाल 700 जिलों और शहरों में सेवा दल का संगठन है जहां 20 से लेकर 200 तक की संख्या में उसके कार्यकर्ता हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi