S M L

कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, राजेश मिश्रा और अजय राय को टिकट

पार्टी की दूसरी सूची में 29 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया गया है.

Updated On: Feb 02, 2017 11:22 PM IST

Amitesh Amitesh
विशेष संवाददाता, फ़र्स्टपोस्ट हिंदी

0
कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, राजेश मिश्रा और अजय राय को टिकट

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपनी दूसरी सूची जारी कर दी है. पार्टी की दूसरी सूची में 29 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया गया है.

कांग्रेस की दूसरी सूची में वाराणसी दक्षिण से पूर्व सांसद राजेश कुमार मिश्रा को चुनाव मैदान में उतारा गया है, जबकि बाहुबली विधायक अजय राय पिंडरा से कांग्रेस उम्मीदवार होंगे.

अजय राय पिछले लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से कांग्रेस उम्मीदवार थे. एक बार फिर से कांग्रेस ने उन्हें विधानसभा चुनाव में उतारा गया है.

वाराणसी कैंट से अनिल श्रीवास्तव कांग्रेस उम्मीदवार होंगे जबकि, रूद्रपुर से अखिलेश प्रताप सिंह कांग्रेस उम्मीदवार होंगे.

तमकुही राज विधानसभा सीट से अजय कुमार लल्लू चुनाव मैदान में होंगे. जबकि, गोरखपुर शहरी सीट से राणा राहुल सिंह कांग्रेस का हाथ मजबूत करते दिखेंगे.

रायबरेली और अमेठी की सीटों का भी ऐलान कांग्रेस ने कर दिया है. इसमें तिलोई सीट से विनोद मिश्रा और हरचंदपुर से राकेश सिंह कांग्रेस उम्मीदवार होंगे.

राकेश सिंह का समाजवादी पार्टी से अब तक वास्ता रहा है लेकिन, इस बार वो गठबंधन के बाद कांग्रेस के सिम्बल पर चुनाव मैदान में अपनी किस्मत आजमाएंगे.

कांग्रेस 105 सीटों पर लड़ेगी चुनाव 

रायबरेली और अमेठी की दस में से आठ सीटों पर एसपी का कब्जा था. लेकिन, गठबंधन के बाद एसपी ने अब अधिकतर सीटें कांग्रेस को दे दी हैं.

रायबरेली से अदिति सिंह को कांग्रेस ने चुनाव मैदान में उतारने का फैसला किया है. सरेनी से अशोक सिंह कांग्रेस उम्मीदवार होंगे.

इसके अलावा जगदीशपुर सुरक्षित सीट से राधेश्याम कनौजिया और महाराजपुर से राजाराम पाल को काग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया है. राजाराम पाल कांग्रेस के पूर्व सांसद भी हैं.

समाजवादी पार्टी के साथ समझौता होने के बाद कांग्रेस के खाते में 105 सीटें आई हैं जबकि, समाजवादी पार्टी 298 सीटों पर चुनाव मैदान में है.

लेकिन, इतनी कम सीटों पर चुनाव लड़ने के बावजूद कांग्रेस की पूरी कोशिश है कि हर तरह से उत्तर प्रदेश के भीतर अपनी खोई साख को वापस लाया जाए.

कांग्रेस को लगता है कि एसपी के साथ गठबंधन के बाद इस बार यूपी में उसे सम्मानजनक सीटें मिलेंगी और बिहार की तरह ही यूपी में भी पार्टी सरकार में शामिल होकर अपनी जमीन मजबूत करने की कोशिश कर सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi