विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

कांग्रेस ने मोदी सरकार पर लगाया तानाशाही रवैये का आरोप

कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री को महत्वपूर्ण मुद्दों पर सदन में अपना बयान देकर चुप्पी तोड़नी चाहिए

Bhasha Updated On: Jul 26, 2017 05:40 PM IST

0
कांग्रेस ने मोदी सरकार पर लगाया तानाशाही रवैये का आरोप

कांग्रेस ने सरकार पर संसद में ‘तानाशाही रवैया अपनाने और लोकतंत्र को कमजोर करने’ का आरोप लगाते हुए सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गौरक्षा के नाम पर लोगों की पीट-पीटकर हत्या और किसानों की दुर्दशा जैसे बेहद महत्वपूर्ण मुद्दों पर संसद में चुप्पी क्यों साधे हुए हैं.

लोकसभा में कांग्रेस के नेता मलिकार्जुन खड़गे ने संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाते हुए कहा, ‘बीजेपी सरकार ने तानाशाही रवैया अपना रखा है ताकि लोकसभा को राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों से चर्चा करने से रोका जा सके.’ उन्होंने दावा किया कि इस तरह के तानाशाही रवैये के कारण लोकतंत्र और संवैधानिक प्रक्रियाएं कमजोर होंगी.

खड़गे ने कहा, ‘हम लोकसभा स्पीकर का सम्मान करते हैं. किन्तु कांग्रेस के छह सदस्यों को लगातार पांच बैठकों के लिए निलंबित करने के पीछे सरकार का दबाव है.’ उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के 6 सदस्यों गौरव गोगोई, सुष्मिता देव, रंजीत रंजन, अधीर रंजन चौधरी, एम के राघवन और के सुरेश को लोकसभा से 24 जुलाई को पांच दिनों के लिए निलंबित किया गया था.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री रैली में और सदन के बाहर सभी मुद्दों पर बोलते हैं. किन्तु गौरक्षा के नाम पर लोगों की पीट-पीटकर हत्या और किसानों की दुर्दशा जैसे बेहद महत्वपूर्ण मुद्दों पर सदन में होने वाली सार्थक चर्चा का जवाब देने से वह हर बार बचने का प्रयास करते हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इन महत्वपूर्ण मुद्दों पर सदन में अपना बयान देकर चुप्पी तोड़नी चाहिए.’

सदन में दोहरा मानदंड अपनाया जा रहा है 

बीजेपी के लोकसभा सदस्य अनुराग ठाकुर द्वारा सदन की कार्यवाही की कथित मोबाइल रिकार्डिंग किए जाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि दोहरा मापदंड अपनाया जा रहा है. सत्ता पक्ष के सदस्य को बिना चेतावनी दिए मात्र उनके खेद जताने पर छोड़ दिया जाता है जबकि एक सदस्य (आम आदमी पार्टी के भगवंत मान) को इसी आरोप में दो सत्रों के लिए निलंबित किया गया था.

उन्होंने एक सवाल के जवाब में मांग की कि कांग्रेस के छह सदस्यों का निलंबन तुरंत वापस लिया जाना चाहिए.

खड़गे ने सरकार से चार सवाल किए जिनमें यह सवाल भी शामिल है कि प्रधानमंत्री मोदी और सत्तारूढ़ बीजेपी सरकार संसद में चर्चा और जवाबदेही से भाग क्यों रही है. उन्होंने यह भी सवाल किया कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी सदस्यों को राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे उठाने के अधिकार से वंचित क्यों किया जा रहा है.

उन्होंने यह सवाल भी किया कि क्या बीजेपी सरकार तानाशाही रवैया नहीं अपना रही है. साथ ही उन्होंने पूछा कि बीजेपी सदस्य अनुराग ठाकुर और छह निलंबित कांग्रेस सदस्यों के बीच अलग-अलग मापदंड क्यों अपनाए जा रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi