विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

सुकमा हमला: सोशल मीडिया पर फैला गुस्सा और उमड़ी संवेदनाएं

नेताओं, सेलेब्रेटीज और क्रिकेट खिलाड़ियों ने शहीदों ने जाहिर की संवेदना

FP Staff Updated On: Apr 24, 2017 09:51 PM IST

0
सुकमा हमला: सोशल मीडिया पर फैला गुस्सा और उमड़ी संवेदनाएं

छत्तीसगढ़ के सुकमा में घात लगाकर सीआरपीएफ के जवानों पर हुए नक्सली हमले पर ट्विटर शोक संदेशों की बाढ़ आ गई है. देश के बड़े नेताओं से लेकर आम लोग भी इस घटना पर दुख और विरोध प्रकट कर रहे हैं.

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा है कि मैं सुकमा में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के परिवारों के साथ संवेदना प्रकट करता हूं. हम अपने वीर जवानों के बलिदान और साहस को सलाम करते हैं.

वरिष्ठ पत्रकार पत्रकार शेखर गु्प्ता ने अपने ट्वीट में नेताओं पर गुस्सा जाहिर किया है. उन्होंने लिखा है कि शोकपूर्ण, कायरतापूर्ण, निंदनीय जैसे शब्दों का लगातार इस्तेमाल कर नेता हमें बीमार कर रहे हैं. इस समय जिन शब्दों का महत्व है वो हैं जिम्मेदारी और जवाबदेही. लेकिन ये शब्द हम कभी नहीं सुनते.

कांग्रेस के ही नेता तहसीन पूनावाला ने भी राज्य सरकार पर गुस्से का इजहार किया है. उन्होंने लिखा कि इस घटना में अपने 24 वीर जवानों की शहादत के बाद अब समय आ गया है कि छत्तीसगढ़ में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाए.

तहसीन पूनावाला ने एक और ट्वीट के जरिए केंद्र सरकार पर भी हमला बोला. उन्होंने नोटबंदी का हवाला देते हुए लिखा कि कश्मीर उबल रहा है. छत्तीसगढ़ में 24 सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए हैं. तो क्या डिमोनेटाइजेशन फेल हो गया है?

कांग्रेस के नेता संजय निरूपम ने जवानों को श्रंद्धाजलि देते हुए लिखा है कि सरकार को अतिवामपंथी समूहों को खत्म करने के लिए सारे कदम उठाने चाहिए.

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने घटना की निंदा करते हुए लिखा है कि इस हमले में शहीद होने वाले जवानों के परिवारों के साथ मैं पूरी संवेदना प्रकट करता हूं. ओम शांति.

फिल्म डायरेक्टर अशोक पंडित ने लिखा है कि सुकमा का हमला सुरक्षा व्यवस्था में जबरदस्त चूक का उदाहरण है. 300 माओवादी हमारे जवानों पर हमला करते हैं और हम अनभिज्ञ पकड़े गए.

क्रिकेट खिलाड़ी शिखर धवन ने भी अपनी संवेदनाएं शहीदों के लिए प्रकट की हैं.

ट्वीटर पर इसके अलावा कई सेलेब्रेटीज और नेताओं ने संवेदनाओं के साथ गुस्से का भी इजहार किया है. लोगों ने अपने ट्वीट्स में संवेदनाओं के साथ सरकार पर कार्रवाई न करने के लिए गुस्सा जाहिर किया है. लोग कह रहे हैं कि सरकार को इन जवानों की शहादत को यूं ही नहीं जाने देना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi