S M L

'कालिख की कोठरी' से निष्कलंक निकल पाएंगे अरविंद केजरीवाल ?

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश मामले में दिल्ली की आप सरकार शायद अब तक के सबसे कठिन दौर से गुजर रही है.

Updated On: Feb 21, 2018 09:27 PM IST

Ravishankar Singh Ravishankar Singh

0
'कालिख की कोठरी' से निष्कलंक निकल पाएंगे अरविंद केजरीवाल ?

दिल्ली सरकार के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से हुई बदसलूकी का मामला हर अगले दिन नया तूल पकड़ता जा रहा है. इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया है. दिल्ली की आप सरकार शायद अब तक के सबसे कठिन दौर से गुजर रही है. सीएम आवास पर घटित इस घटना की आंच का अब अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया तक पहुंचना भी तय माना जा रहा है. ऐसे में अगले कुछ दिनों तक यह मामला और तूल पकड़ेगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता.

तेजी से बदलते राजनीतिक माहौल में सभी विपक्षी पार्टियां मामले को भुनाने में लगी दिख रही हैं. कांग्रेस पार्टी इस घटना पर जहां सीएम अरविंद केजरीवाल से माफी मांगने को कह रही है, वहीं बीजेपी अरविंद केजरीवाल सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर रही है. रही सही कसर गृह मंत्रालय ने दिल्ली के एलजी से रिपोर्ट मांग कर पूरी कर दी है.

एक तरफ बुधवार को आम आदमी पार्टी के दो विधायकों की गिरफ्तारी हुई, वहीं दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने सीएम अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वी के जैन को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की. वी के जैन वही शख्स हैं, जिन्होंने मुख्य सचिव अंशु प्रकाश को फोन कर सीएम आवास बुलाया था.

बुधवार को अंशु प्रकाश की मेडिकल रिपोर्ट भी सामने आ गई. अंशु प्रकाश की मेडिकल रिपोर्ट में उनके साथ मारपीट की बात सामने आई है. मुख्य सचिव की मेडिकल रिपोर्ट में होंठ कटने और गालों में सूजन की बात सामने आई है. बीती रात ही अंशु प्रकाश ने दिल्ली के अरुणा आसफ अली अस्पताल में जाकर अपना मेडिकल कराया था.

IAS officers meet Delhi Lt. Gov

दूसरी तरफ, इस बदलते राजनीतिक घटनाक्रम में आम आदमी पार्टी भी हमलावर हो गई है. आम आदमी पार्टी ने अपने दोनों विधायकों की गिरफ्तारी को केंद्र सरकार और बीजेपी की साजिश करार दिया है. पार्टी नेता आशुतोष और राज्यसभा सांसद संजय सिंह का कहना है कि केंद्र सरकार एक तरह से सुनियोजित साजिश के तहत आप के नेताओं को फंसा रही है.

गौरतलब है कि मंगलवार रात को दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी के विधायक प्रकाश जारवाल को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया था, जबकि इस मामले के दूसरे आरोपी अमनातुल्लाह खान ने खुद ही बुधवार को आत्मसमर्पण कर दिया था.

अंशु प्रकाश की मेडिकल रिपोर्ट में मारपीट की बात का खुलासा होने के बाद पार्टी पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं. मुख्य सचिव के साथ हुई मारपीट की घटना के बाद आईएएस एसोसिएशन ने कामकाज ठप कर रखा है. दूसरी तरफ दिल्ली सचिवालय के कर्मचारियों ने भी विरोध करते हुए कामकाज बंद कर रखा है. अधिकारियों के तीन एसोसिएशनों ने मंगलवार रात बैठक कर एक प्रस्ताव पारित किया था, जिसमें कहा गया है कि लोक सेवा आपूर्ति को ध्यान में रखते हुए आम आदमी पार्टी के मंत्रियों के साथ हमलोग लिखित में संवाद बनाए रखेंगे.

इस बैठक में इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस, दिल्ली अंडमान एंड निकोबार आईलैंड्स सिविल सर्विस और दिल्ली सबऑर्डिनेट सर्विसेज सलेक्शन बोर्ड के पदाधिकारी शामिल हुए.

देश की सोशल साइट्स पर भी दिल्ली के मुख्य सचिव के साथ हुई मारपीट की घटना का चौतरफा विरोध हो रहा है. वहीं आम आदमी पार्टी के विधायकों पर पुलिसिया कार्रवाई और आप का केंद्र सरकार पर दलित और मुस्लिम विरोधी होने के आरोप को लेकर भी खूब चर्चा हो रही है.

इस पूरे घटनाक्रम पर पार्टी के वरिष्ठ नेता और कवि कुमार विश्वास ने भी ट्वीट किया है. कवि कुमार विश्वास ने ट्वीट कर तंज कसते हुए कहा है, ‘जो झूठ बोल के करता है मुतमईन(संतुष्ट) सबको, वो झूठ बोल के मुतमईन नहीं होता.’ माना जा रहा है कि इस ट्वीट के जरिए कुमार विश्वास ने पूरे मामले पर अब तक अरविंद केजरीवाल की ओर से सफाई नहीं देने पर तंज कसा है. कुमार विश्वास ने पार्टी की तरफ से झूठ पर झूठ बोलने को लेकर भी तंज कसा है.

सीएम आवास पर हुई इस घटना और मुख्य सचिव अंशु प्रकाश की मेडिकल रिपोर्ट सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी की हर जगह किरकिरी हो रही है. साथ ही ये भी तय है कि इस मामले में आप विधायक अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल की मुश्किलें और भी बढ़ेंगी. इतना ही नहीं, चूंकि ये घटना सीएम आवास पर कथित तौर पर मुख्यमंत्री की मौजूदगी में हुई है इसलिए इसकी आंच सीएम अरविंद केजरीवाल तक भी पहुंचने वाली है. दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को उस याचिका को भी खारिज कर दिया है, जिसके तहत इस मामले को लेकर कोर्ट के हस्तक्षेप की मांग की गई थी.

बुधवार को आम आदमी पार्टी ने पीसी कर इस मुद्दे को लेकर केंद्र सरकार और बीजेपी पर जोरदार हमला बोला है. आप नेता आशुतोष और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने मीडिया को संबोधित करते हुए दिल्ली सरकार को बर्खास्त करने की साजिश रचने का आरोप लगाया है. संजय सिंह ने कहा है कि मुख्य सचिव बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं. दूसरी तरफ मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी के मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मुश्किलें बढ़ सकती हैं.

sanjay singh

दिल्ली पुलिस सूत्रों की मानें तो इस मामले में मनीष सिसोदिया और अरविंद केजरीवाल से भी दिल्ली पुलिस पूछताछ कर सकती है. दिल्ली पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि देर रात मीटिंग में क्या कुछ हुआ. इसी कड़ी में बुधवार को दिल्ली पुलिस ने अरविंद केजरीवाल के सलाहकार से 3 घंटे तक पूछताछ की.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक सीएम के सलाहकार वी के जैन इस जांच का अहम हिस्सा साबित होंगे. इसलिए वी के जैन जांच के लिहाज से दिल्ली पुलिस के अहम सदस्य हैं. गौरतलब है कि वी के जैन एक रिटायर्ड आईएएस अधिकारी हैं. दिल्ली पुलिस भी मामले की गहनता से जांच कर रही है. दिल्ली पुलिस सीएम आवास में मौजूद सभी विधायकों और पदाधिकारियों के फोन कॉल के रिकॉर्ड को खंगाल रही है. ऐसे में अगर दिल्ली पुलिस को कोई सुराग मिलता है तो वी के जैन सहित कुछ और लोगों को भी मामले में आरोपी बनाया जा सकता है.

हालांकि सूत्र बताते हैं कि दिल्ली पुलिस जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाना चाहती है, जिससे कि उसकी बदनामी हो. पुलिस इस हाई प्रोफाइल मामले को लेकर कानून के जानकारों से भी राय ले रही है. कानून के जानकारों से राय लेने के बाद ही दिल्ली पुलिस इस मामले में और आगे बढ़ेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi