S M L

छत्तीसगढ़ चुनाव: राजनांदगांव में अटल बिहारी वाजपेयी का खून और पार्टी दोनों आमने-सामने हैं

छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में सबसे हाई प्रोफाइल मानी जा रही राजनांदगांव सीट पर इस बार कुछ रोचक संयोग हो रहे हैं

Updated On: Nov 11, 2018 07:17 PM IST

FP Staff

0
छत्तीसगढ़ चुनाव: राजनांदगांव में अटल बिहारी वाजपेयी का खून और पार्टी दोनों आमने-सामने हैं

छत्तीसगढ़ के विधानसभा चुनाव में सबसे हाई प्रोफाइल मानी जा रही राजनांदगांव सीट पर इस बार कुछ रोचक संयोग हो रहे हैं. इस सीट पर सीएम डॉ. रमन सिंह बीजेपी प्रत्याशी हैं. संयोग ही है कि इस सीट से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की भतीजी करुणा शुक्ला कांग्रेस से प्रत्याशी हैं. यानी कि इस सीट से अटल बिहारी वाजपेयी का खून और पार्टी दोनों आमने-सामने हैं.

राजनांदगांव सीट पर इस संयोग के अलावा और भी संयोग बन रहे हैं. बीजेपी के प्रत्याशी सीएम डॉ. रमन सिंह खुद के लिए वोट नहीं कर सकेंगे. क्योंकि उनका नाम अपने गृह ग्राम कवर्धा की मतदाता सूची में है. इसी तरह कांग्रेस प्रत्याशी करुणा शुक्ला भी खुद के लिए मतदान नहीं कर सकेंगीं. क्योंकि करुणा शुक्ला रायपुर जिले की मतदाता हैं.

KARUNA-SHUKLA1

राजनांदगांव सीट पर उक्त दोनों सयोंग के अलावा एक और संयोग है. कभी एक ही पार्टी में साथ काम करने वाले नेता आज प्रतिद्वंदी के रूप में आमने सामने हैं, लेकिन इसे महज़ एक इत्तेफाक ही समझिए कि केवल राजनीतिक अखाड़े में नहीं बल्कि निजी जीवन में भी दोनों आमने-सामने ही हैं. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निजी निवास के ठीक सामने राजनांदगांव से कांग्रेस की उम्मीदवार और इस चुनाव में उनकी प्रतिद्वंदी करुणा शुक्ला का मकान है, जो विधायक कोटे से दोनों को आवंटित हुआ था. रायपुर में दोनों एक दूसरे के पड़ोसी हैं.

(न्यूज18 के लिए राघवेंद्र साहू की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi