S M L

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: नक्सल प्रभावित राज्य में केंद्रीय और राज्य सुरक्षा बल अलर्ट पर

नक्सल प्रभावित इस राज्य में चुनावी प्रक्रिया सुचारू रूप से हो सके, इसके लिए केंद्र और राज्य दोनों ही तैयारी में जुटे हुए हैं

Updated On: Oct 23, 2018 05:02 PM IST

FP Staff

0
छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: नक्सल प्रभावित राज्य में केंद्रीय और राज्य सुरक्षा बल अलर्ट पर

नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ में 12 नवंबर से विधानसभा चुनाव शुरू हो रहे हैं. यहां चुनावी प्रक्रिया सुचारू रूप से हो सके, इसके लिए केंद्र और राज्य दोनों ही तैयारी में जुटे हुए हैं.

केंद्र ने एक नया निर्देश जारी कर राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में चुनावों के दौरान तैनाती के लिए 25,000 पैरामिलिट्री जवानों को भेजा है. इनमें से सबसे बड़ा ट्रूप छत्तीसगढ़ के लिए भेजा जाएगा. केंद्र ने पहले ही कहा था कि ये जवान 15 अक्टूबर से ही अपने पोस्टिंग वाले राज्यों में तैनात हो जाएं.

रिपोर्ट है कि पहले चरण की 18 सीटों के लिए होने वाली वोटिंग में मतदान में सुरक्षा के लिहाज से केंद्रीय बलों के अलावा 18 राज्यों की आर्म्स फोर्स की भी तैनाती रहेगी. सुरक्षाबलों की जल्दी तैनाती इसलिए भी जरूरी है क्योंकि राज्य में पहले ही इन चुनावों को लेकर नक्सलियों ने बहिष्कार का आह्वाान किया है और इसके खिलाफ हिंसा फैलाने को तैयार है. और इसके अलावा पहले चरण में जिन 18 सीटों पर मतदान होना है, उनमें से ज्यादातर क्षेत्र नक्सल प्रभावित हैं. इसलिए वहां शांतिपूर्ण मतदान कराना प्रशासन के लिए कड़ी चुनौती है.

प्रदेश के मुख्य सचिव अजय सिंह के मुताबिक छत्तीसगढ़ में शांतिपूर्ण मतदान के लिए जितनी फोर्स की मांग की गई थी, भारत सरकार उन्हें पूरा कर रही है.

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, पैरामिलिट्री जवानों और राज्यों की आर्म्स फोर्स से बनी इन अतिरिक्त 250 कंपनियों में से 50-50 राजस्थान और मध्य प्रदेश में भेजे जाएंगे. इनमें सबसे ज्यादा 150 कंपनियां छत्तीसगढ़ के लिए अलॉट की गई हैं.

जानकारी के अनुसार, एक कंपनी में 80 से 100 जवानों का ग्रुप होगा, जो मतदान दलों के साथ मतदान केंद्रों की भी सुरक्षा में तैनात रहेंगे. मतदान दलों के लिए रिमोट एरिया में हेलीकॉप्टर से लाने ले जाने की व्यवस्था की गई है.

ध्यान दें कि प्रदेश में पिछले विधानसभा चुनाव में धुर नक्सल प्रभावित जिलों में कुल 550 कंपनियां तैनात की गई थीं. इसके बाद भी नक्सलियों ने आईडी बम लगाकर छिटपुट घटनाओं को अंजाम दिया था, जिसके बाद फोर्स की संख्या बढ़ा दी गई है.

बता दें कि इस बार भी नक्सली आतंकवादी चुनावी वक्त में राज्य को अस्थिर करने में लगे हुए हैं. अभी 20 अक्टूबर को ही नक्सल प्रभावित बीजापुर जिले में सुरक्षाबलों की नक्सलियों से मुठभेड़ में तीन नक्सलियों को मार गिराया गया.

घटनास्थल से कुछ विस्फोटक सामाग्री, नक्सली साहित्य, विधानसभा चुनाव का बहिष्कार करने वाला पर्चा भी बरामद किया गया. उन्होंने बताया कि 19 अक्टूबर को भी जिले के इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान के पास नीलमड़गु गांव के नजदीक पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी. इस दौरान पुलिस दल ने दो माओवादी शिविरों को ध्वस्त कर दिया था.

छत्तीसगढ़ में दो चरणों में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होगा. पहले चरण में अगले महीने की 12 तारीख को बस्तर क्षेत्र के जिलों और राजनांदगांव जिले में मतदान होगा. वहीं, अन्य 72 सीटों के लिए 20 नवंबर को मतदान होगा. मतों की गिनती 11 दिसंबर को होगी.

राज्य में नक्सली विधानसभा चुनाव का विरोध कर रहे हैं. बीजापुर और अन्य जिलों में नक्सलियों ने चुनाव का बहिष्कार करने के लिए कहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi