S M L

कांग्रेस ने पूरे देश में किया प्रोटेस्ट, राहुल ने कहा- पीएम भाग सकते हैं, लेकिन सच नहीं छुपता

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव, सीपीएम नेता डी राजा और तृणमूल कांग्रेस के नदीम-उल-हक भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए

Updated On: Oct 26, 2018 04:21 PM IST

FP Staff

0
कांग्रेस ने पूरे देश में किया प्रोटेस्ट, राहुल ने कहा- पीएम भाग सकते हैं, लेकिन सच नहीं छुपता
Loading...

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के अधिकार वापस लेकर उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मुद्दे पर माफी की मांग को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को विरोध मार्च निकाला.

कांग्रेस का यह विरोध मार्च लोधी रोड स्थित दयाल सिंह कॉलेज के बाहर से शुरू होकर करीब एक किलोमीटर दूर सीबीआई मुख्यालय तक गया. कांग्रेस ने वर्मा के खिलाफ की गई इस कार्रवाई को 'अवैध और असंवैधानिक' करार दिया है.

अशोक गहलोत, अहमद पटेल, मोतीलाल वोरा, वीरप्पा मोइली और आनंद शर्मा समेत कांग्रेस के अनेक वरिष्ठ नेताओं ने इस मार्च में हिस्सा लिया जो सीबीआई मुख्यालय के बाहर पहुंचने के बाद विरोध प्रदर्शन में तब्दील हो गया.

लोकतांत्रिक जनता दल के नेता शरद यादव, सीपीएम नेता डी राजा और तृणमूल कांग्रेस के नदीम-उल-हक भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए.

प्रदर्शनकारियों ने अपने हाथों में पोस्टर लिए थे जिनपर प्रधानमंत्री के खिलाफ नारे लिखे थे. प्रदर्शनकारियों में से एक ने सीबीआई को पिंजरे में दर्शाते हुए एक पोस्टर पकड़ा हुआ था.

राहुल सीबीआई मुख्यालय के बाहर लगाए गए पुलिस बैरीकेड के सामने एक ट्रक पर चढ़ गए. प्रदर्शनकारियों को इमारत तक पहुंचने से रोकने की खातिर वहां पुलिस बैरीकेड लगाए गए थे.

इसके बाद कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सीबीआई मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस अध्यक्षा राहुल गांधी और अन्य नेताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. हालांकि राहुल गांधी लोधी कॉलोनी पुलिस स्टेशन गिरफ्तारी देने पहुंचे थे.

पुलिस स्टेशऩ से बाहर आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा- प्रधानमंत्री किसान का एक रुपया कर्जा माफ नहीं कर सकते. मेहुल चोकसी, नीरव मोदी पैसे लेकर भाग गया. अब शायद अनिल अंबानी भी भाग जाएगा. सबके मन में एक ही बात है 'देश का चौकीदार चोर है. पीएम भाग सकते हैं, छुप सकते हैं लेकिन अंत में, सच सामने आता है. सीबीआई डायरेक्टर को हटाया गया.'

सरकार ने अपने फैसले का मजबूती से बचाव करते हुए कहा है कि सीबीआई की संस्थागत संप्रभुता को बनाए रखना 'बेहद जरूरी' था और केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (CVC) की अनुशंसा के आधार पर यह कार्रवाई की गई.

राष्ट्रीय राजधानी की ही तरह देश के अन्य हिस्सों में भी कांग्रेस ने इस मुद्दे को लेकर विरोध प्रदर्शन किए. विभिन्न राज्यों में कांग्रेस के नेताओं ने अपने-अपने क्षेत्र में विरोध प्रदर्शनों की अगुवाई की.

सरकार ने एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को मंगलवार देर रात को लंबी छुट्टी पर भेज दिया था.

सीबीआई के कई अधिकारियों के तबादले किए गए और एम नागेश्व राव को एजेंसी के अंतरिम प्रमुख का दायित्व सौंपा गया. सुप्रीम कोर्ट में मामले पर सुनवाई के तुरंत बाद कांग्रेस ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi