S M L

उपचुनाव नतीजों में मोदी-शाह के लिए छिपी सलाह: दोस्त बने BJP

कैराना उपचुनाव में बीजेपी की हार चौंकाने वाली नहीं है, इस सीट पर मुस्लिम बहुसंख्‍यक हैं और नतीजे में यह दिखता भी है

Updated On: May 31, 2018 05:33 PM IST

FP Staff

0
उपचुनाव नतीजों में मोदी-शाह के लिए छिपी सलाह: दोस्त बने BJP

चार लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों के नतीजों से यह बात साबित होती है कि 2019 के आम चुनावों से पहले एनडीए को विपक्षी एकजुटता का सामना करने के लिए अपने संभावित साझेदारों को ढूंढ़ना होगा. सत्‍ताधारी दल के लिए संदेश साफ है, 'हेकड़ी छोड़कर नम्र बनिए और वोट हासिल करने के लिए दोस्‍त बनाइए.'

लोकसभा सीटों के उपचुनाव में एनडीए को एक और विपक्ष को तीन सीटें मिली हैं और विधानसभा के उपचुनावों में एनडीए को एक और अन्‍यों को 11 सीटें मिली हैं. ये नतीजे अगले साल होने वाले आम चुनावों की पूर्व सूचना नहीं है, लेकिन इनसे यह साफ होता है कि वर्तमान में एकजुट विपक्ष के आंकड़े बेहतर हैं. गठबंधनों की बड़ी लड़ाई में विपक्ष के पास बढ़त है.

कैराना उपचुनाव में बीजेपी की हार चौंकाने वाली नहीं है, इस सीट पर मुस्लिम बहुसंख्‍यक हैं और नतीजे में यह दिखता भी है. बीजेपी ने 2014 के चुनावों में विपक्षी मतों के बंटवारे का फायदा उठाते हुए यह सीट राष्‍ट्रीय लोकदल(आरएलडी) से छीनी थी. इसी तरह से उसने 2017 में नूरपुर विधानसभा सीट पर कब्‍जा किया था. इससे एसपी, बीएसपी और अन्‍य के संदेश है कि शरीर के अंगों की तरह जुड़े रहो.

(भवदीप कांग की न्यूज 18 के लिए रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi