विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

दिल्ली में गाड़ी खरीदना और पार्किंग करना दोनों होगा महंगा

दिल्ली सरकार के नए मसौदे में ज्यादा कार रखने वालों के लिए पर्किंग शुल्क और ज्यादा लगेगा

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jun 15, 2017 10:03 PM IST

0
दिल्ली में गाड़ी खरीदना और पार्किंग करना दोनों होगा महंगा

दिल्ली में वाहनों की बेतहाशा बढ़ोतरी को देखते हुए दिल्ली सरकार की पार्किंग नीति के मसौदे को उपराज्यपाल ने आखिरकार मंजूरी दे दी.इस मसौदे के अमल में आते ही अब दिल्ली में वाहन और पार्किंग दोनो महंगे हो जाएंगे.

परिवहन विभाग नई पार्किंग मसौदे पर जनता से एक महीने के अंदर सुझाव मंगाएगी. जनता से मिले सुझाव के बाद सरकार जरूरत पड़ने पर मसौदे में बदलाव भी कर सकती है.

दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए कई स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं. दिल्ली सरकार के ताजा कदम को दिल्ली में बढ़ती गाड़ियों के प्रदूषण से भी जोड़ कर देखा जा रहा है. दिल्ली की सड़कों पर रोजाना ट्रैफिक जाम और प्रदूषण को देखते हुए सरकार को इस तरह के कड़े कदम उठाने पड़े हैं.

दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर दिल्ली-एनसीआर

दिल्ली में रजिस्टर्ड वाहनों की संख्या एक करोड़ को पार कर गई है. एक रिकॉर्ड के अनुसार दिल्ली में हर साल 60 हजार करोड़ रुपए का नुकसान प्रदूषण के कारण होता है. WHO यानी वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के अनुसार दुनिया के दस सबसे प्रदूषित शहरों में दिल्ली-एनसीआर का नाम आता है.

A traffic policeman wears a mask to protect himself from dust and air pollution as he signals to drivers in New Delhi, India, December 23, 2015. India's carmakers and dealers on Thursday called for a clear, nationwide policy to combat air pollution, after a crackdown on diesel cars and trucks in New Delhi, which campaigners have vowed to extend to other cities. REUTERS/Adnan Abidi - RTX1ZWFB

 

दिल्ली सरकार के इस कदम से एक घर में एक से ज्यादा गाड़ियां होने और  गाड़ी खरीदने पर लगाम लग सकती है. साथ ही सरकार ने रोड टैक्स में बढ़ोतरी के भी संकेत दिए हैं.

नगर निगमों को 600 करोड़ के फायदा का अनुमान

दिल्ली सरकार की नई नीति के बाद दिल्ली के नगर निगमों को 600 करोड़ रुपए का फायदा होने का अनुमान है. दिल्ली में इस समय लगभग 80 प्रतिशत पार्किंग नगर निगमों के तहत आती हैं.

दिल्ली सरकार की नई नीति के अमल में आ जाने के बाद सड़क किनारे कार खड़ी करने पर भारी भरकम टैक्स अदा करने पड़ेंगे. सिर्फ यही नहीं दिल्ली में नई नीति के अमल में आ जाने के बाद पीक आवर्स में ज्यादा पैसे देने पड़ेंगे. वीकडेज और वीकएंड्स में भी पार्किंग फीस में अंतर होगा.

दिल्ली में लगभग एक करोड़ वाहन हैं. जिसमें लगभग 10 लाख वाहन निजी हैं और ज्यादातर वाहन सड़क किनारे खड़े होते हैं. इस नीति के लागू हो जाने के बाद एक से ज्यादा गाड़ी रखने वालों को दिक्कतें हो सकती हैं.

Traffic moves along a busy road in New Delhi January 11, 2011. Auto sales in India grew a record 31 percent in 2010, driven by a burgeoning middle class in Asia's third-largest economy, but tougher comparisons, a likely hike in interest rates, and rising fuel and vehicles costs are expected to slow sales growth this year. REUTERS/B Mathur (INDIA - Tags: TRANSPORT BUSINESS) - RTXWFJR

 

ज्यादा कार रखने वालों के लिए पार्किंग शुल्क ज्यादा

जहां एक तरफ दिल्ली सरकार के नए मसौदे में ज्यादा कार रखने वालों के लिए पर्किंग शुल्क और ज्यादा लगेगा. वहीं दिल्ली सरकार मल्टीलेवल पार्किंग को सस्ता कर सकती है. दिल्ली में अंडरग्राउंड पार्किंग की तुलना में मल्टीलेवल पार्किंग महंगी है.

नई नीति के तहत कॉलोनियों की गलियों में निजी वाहनों के लिए जगह देने का प्रस्ताव है. दिल्ली नगर निगम और डीडीए कॉलोनियों की खाली जगहों को पार्किंग स्थल के तौर पर विकसित करेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi