S M L

क्यों CM फडणवीस ने उद्धव को मिलने के लिए कराया ढ़ाई घंटे इंतजार?

शिवसेना के एक नेता ने कहा कि 'फडणवीस ने शिवसेना के विरोधी नारायण राणे से मुलाकात की लेकिन ठाकरे से नहीं मिले

FP Staff Updated On: Mar 29, 2018 05:50 PM IST

0
क्यों CM फडणवीस ने उद्धव को मिलने के लिए कराया ढ़ाई घंटे इंतजार?

बीजेपी-शिवसेना गठबंध की गांठ हर दिन खुलती जा रही है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने आरोप लगाया है कि वह सीएम देवेंद्र फडणवीस से मिलने गए थे. ढ़ाई घंटे तक उन्होंने इंतजार कराया, लेकिन मिलने का समय नहीं दिया. इस मुद्दे को लेकर दोनों पार्टियों के बीच एकबार फिर तानातनी बढ़ गई है.

इधर शिवसेना अब आग बबूला हो गई है. पार्टी के एक नेता ने कहा कि 'फडणवीस ने शिवसेना के विरोधी नारायण राणे से मुलाकात की लेकिन ठाकरे से नहीं मिले. इससे पता चलता है कि बीजेपी किस तरह से अपने सहयोगियों के साथ बर्ताव करती है.'

टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक बीजेपी ने कहा है कि मुख्‍यमंत्री कार्यालय में किसी गलतफहमी के कारण यह मुलाकात नहीं हो पाई होगी. एक मंत्री ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस शिवसेना प्रमुख के साथ इस तरह का व्यवहार कभी नहीं कर सकते हैं.

हालांकि बाद में सीएम फडणवीस ने उद्धव ठाकरे के साथ लंबी बातचीत की और कहा कि जिन मुद्दों को उन्‍होंने अपने पत्र में उठाया है, उसका समाधान किया जाएगा. दोनों नेताओं के बीच बुधवार को पहले से बैठक तय थी लेकिन विधानसभा में व्‍यस्‍तता के कारण सीएम मुलाकात नहीं कर पाए.

जानकारी के मुताबिक ठाकरे ने विधायकों के फंड के न्‍यायोचित वितरण और आवश्‍यक मुद्दों को लेकर फडणवीस से समय मांगा था. उद्धव ठाकरे समय पर विधानसभा भवन से सटे अपने पार्टी कार्यालय पहुंच गए लेकिन सीएम कार्यालय ने बताया कि मुख्‍यमंत्री विधानसभा में महत्‍वपूर्ण मुद्दों पर जवाब दे रहे हैं, इसलिए उन्‍हें आधे घंटे इंतजार करना होगा. इसी बीच फडणवीस से मिलने के लिए नारायण राणे विधानभवन में पहुंचे.

ठाकरे को जब इसकी सूचना मिली तो उन्‍हें इंतजार करना पड़ा जबकि शिवसेना के मंत्रियों ने प्रयास किया कि दोनों नेताओं की मुलाकात हो जाए.

राणे चाहते थे कि उनके गढ़ समझे जाने वाले कोंकण इलाके में एक हॉस्पिटल का उद्घाटन पीएम मोदी करें. शिवसेना इस बात से नाराज हो गई कि सीएम के पास राणे से मिलने के लिए समय है लेकिन ठाकरे के साथ पूर्व निर्धारित चाय पर चर्चा के लिए समय नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi