S M L

राफेल पर आज सरकार को घेरेंगे राहुल, केंद्र भी पलटवार की तैयारी में

राहुल ने शुक्रवार को इस मसले पर लोकसभा में बोलने के लिए स्पीकर सुमित्रा महाजन को लिखित नोटिस दिया है

Updated On: Feb 09, 2018 12:41 PM IST

FP Staff

0
राफेल पर आज सरकार को घेरेंगे राहुल, केंद्र भी पलटवार की तैयारी में

संसद के मौजूदा सत्र के आगे अभी और गरमाने के आसार हैं. कांग्रेस नेता रेणुका चौधरी की हंसी का मामला अभी थमा नहीं था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल डील पर सरकार को घेरने का मूड बना लिया है. राहुल ने शुक्रवार को इस मसले पर लोकसभा में बोलने के लिए स्पीकर सुमित्रा महाजन को लिखित नोटिस दिया है.

बजट सत्र का पहला चरण शुक्रवार को ही खत्म हो रहा है और दूसरा चरण 5 मार्च से शुरू होगा.

नियम 357 में नोटिस क्यों?

राहुल गांधी ने नियम 357 के तहत नोटिस देते हुए स्पीकर से राफेल मामले में बोलने की इजाजत मांगी है. गुरुवार को राहुल ने कहा भी था कि जब कोई सदस्य कोई मुद्दा उठाता है तो उसे राफेल मुद्दे पर बोलने का मौका मिलना चाहिए. कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सबने पीएम को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वोट दिया था, लेकिन राफेल डील के बारे में पीएम कुछ नहीं बोल रहे हैं.

उधर, लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, 'नियम 357 के तहत राहुल को बोलने का मौका मिलना चाहिए. हमने इस मामले में लोकसभा स्पीकर को नोटिस दिया है अब उन्हें ही इसपर फैसला करना है. हम चाहेंगे कि राहुल को बोलने का मौका मिले.'

'कुछ नहीं मिला तो उठा रहे राफेल मुद्दा'

अगर राहुल गांधी ने सरकार पर हमलावर रुख अपनाया है तो सरकार भी पलटवार करने की जुगत में लग गई है. गुरुवार को संसद में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी को आड़े हाथों लिया और कहा कि राफेज जैसे आरोप लगाकर वह भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ गंभीर समझौता कर रहे हैं. जेटली ने कहा, 'मेरा आरोप है कि राहुल गांधी भारत की सुरक्षा से गंभीर समझौता कर रहे हैं।'

जेटली ने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं, ऐसे में अब वह एनडीए सरकार में भ्रष्टाचार तलाशने की कोशिश कर रही है. उन्हें कुछ नहीं मिला तो राफेल का मुद्दा उठा रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi