S M L

भावुक भाषण में येदियुरप्पा ने लिया संकल्प, 2019 में जीतेंगे कर्नाटक की सारी लोकसभा सीटें

शनिवार को कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट से पहले अपने भाषण में येदियुरप्पा भावुक दिखे, उन्होंने कहा कि 104 के बजाय 113 सीटें मिली होती तो राज्य को स्वर्ग बना देते

Updated On: May 19, 2018 05:15 PM IST

FP Staff

0
भावुक भाषण में येदियुरप्पा ने लिया संकल्प, 2019 में जीतेंगे कर्नाटक की सारी लोकसभा सीटें

कर्नाटक के नवनियुक्त मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने विश्वास मत का सामना किए बगैर ही शनिवार को इस्तीफा देने की घोषणा कर दी और इस तरह कर्नाटक में तीन दिन पुरानी येदियुरप्पा सरकार गिर गई. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को आदेश दिया था कि येदियुरप्पा सरकार शनिवार शाम चार बजे राज्य विधानसभा में विश्वास मत हासिल करें. हालांकि राज्यपाल वजुभाई वाला ने येदियुरप्पा को अपना बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय दिया था.

इस्तीफे से पहले येदियुरप्पा ने ये भी दावा किया उनकी पार्टी लोकसभा चुनाव में राज्य की सभी सीटों पर जीत हासिल करेगी. भावुक भाषण के दौरा येद्दि ने कहा कि अगर मैं सरकार नहीं बना सका तो कोई बात नहीं मेरा जीवन लोगों की की सेवा के लिए है.

104 की बजाए 113 सीटें मिलती तो राज्य को स्वर्ग बना देते

इस्तीफा देने से पहले अपने भाषण में येदियुरप्पा ने कहा कि कर्नाटक की जनता ने हमें 104 सीटें सौंपी हैं. जनता का जनादेश कांग्रेस और जेडीएस के लिए नहीं था. उन्होंने कहा कि अगर लोगों ने हमें 104 की बजाए 113 सीटें दी होतीं तो राज्य को स्वर्ग बना देते. उन्होंने कहा कि मैं बीते 2 सालों से पूरे राज्य में घूम रहा हूं और इस दौरान मैंने लोगों का दर्द उनके चेहरों पर महसूस किया. मैं लोगों का प्यार और स्नेह भूल नहीं सकता.

अपने भावनात्मक भाषण के बाद उन्होंने विधानसभा में कहा कि मैं विश्वास मत का सामना नहीं करूंगा. मैं इस्तीफा देने जा रहा हूं. मैं राजभवन जाऊंगा और अपना इस्तीफा सौंप दूंगा. येदियुरप्पा ने कहा कि वह अब ‘लोगों के पास जाएंगे.’

उनके इस्तीफे के बाद अब राज्य में जेडीएस की राज्य इकाई के प्रमुख एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व में सरकार गठन का मार्ग प्रशस्त हो गया है. जेडीएस को कांग्रेस का समर्थन हासिल है. कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ने 224 सदस्यीय विधानसभा में 117 विधायकों के समर्थन का दावा किया है. दो सीटों पर विभिन्न कारणों से मतदान नहीं हुआ था जबकि कुमारस्वामी दो सीटों से चुनाव जीत थे.

'ऑपरेशन कमल' विफल, लोकतंत्र जीता- कांग्रेस

कर्नाटक विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले ही बीएस येदियुरप्पा के इस्तीफे के एलान को 'लोकतंत्र की जीत ' करार देते हुए कांग्रेस ने कहा कि 'ऑपरेशन कमल' विफल रहा.

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया 'ऑपरेशन कमल विफल रहा. येदियुरप्पा दो दिन के मुख्यमंत्री रहे, जैसा कि देश ने पूर्वानुमान लगाया था. उन्होंने सात दिनों के मुख्यमंत्री का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया', रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ' लोकतंत्र जीता, संविधान जीता.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi