S M L

यूपी: बीजेपी विधायक ने 'सुल्तानपुर' का नाम बदलने की उठाई मांग, सदन में होगी चर्चा

बीजेपी विधायक देवमणि ने बताया कि सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुशभवनपुर किए जाने का प्रस्ताव विधानसभा में रखा गया है

Updated On: Sep 01, 2018 01:34 PM IST

FP Staff

0
यूपी: बीजेपी विधायक ने 'सुल्तानपुर' का नाम बदलने की उठाई मांग, सदन में होगी चर्चा

बीजेपी द्वारा इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयाग करने की मांग के बाद अब उत्तर प्रदेश के एक पार्टी विधायक ने सुल्तानपुर जिले का नाम बदलकर भगवान श्रीराम के बेटे कुश पर रखने को कहा है. सुल्तानपुर के लंबुआ क्षेत्र से बीजेपी के विधायक देवमणि द्विवेदी ने यह प्रस्ताव रखा है. प्रस्ताव के अनुसार, सुल्तानपुर जिले का नाम बदलकर कुशभवनपुर किए जाने की मांग की गई है.

बीजेपी विधायक देवमणि ने बताया कि सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुशभवनपुर किए जाने का प्रस्ताव विधानसभा में रखा गया है. सदन ने इस पर चर्चा के लिए मंजूरी भी दे दी है. दरअसल, ऐसी मान्यता है कि गोमती नदी के किनारे बसे इस जिले को भगवान श्रीराम के बेटे कुश ने ही बसाया था. इसके अलावा महाराज कुश का सबसे बड़ा भवन भी यहीं स्थित है जिसके चलते इस जगह का नाम कुशभवनपुर रखे जाने की मांग की जा रही है.

देवमणि द्विवेदी ने बताया कि सुल्तानपुर का नाम अलाउद्दीन खिलजी के समय में जबरन रखा गया था. लोगों को यह नाम बिल्कुल पसंद नहीं था. देवमणि द्विवेदी ने सुल्तानपुर की कहानी सुनाते हुए बताया कि एक बार अरब के दो घोड़ा व्यापारियों को कुशभवनपुर के कबीले के सरदारों ने मार दिया था. इससे गुस्साए अलाउद्दीन खिलजी ने इस शहर से अपमान का बदला लेने के बारे में सोचा और इस जगह का नाम सुल्तानपुर रख दिया.

हालांकि इस जिले के इतिहास के बारे में किसी को सही से कुछ नहीं पता लेकिन लोगों के अनुसार इसकी कहानी कुछ ऐसी ही है. 1982 में उत्तर प्रदेश जिले के भौगोलिकी में लिखी बातों के अनुसार करीब 750 साल पहले दो भाई सईद मुहम्मद और सईद अलाउद्दीन घोड़ा बेचने के उद्देश्य से पूर्वीय अवध में आए थे.

यहां उन्हें कुशभवनपुर के कबीले के सरदारों को घोड़ा बेचना था लेकिन ऐसा नहीं हुआ और उनसे घोड़े छीनकर दोनों को मार दिया गया. अलाउद्दीन खिलजी को जब इस घटना के बारे में पता चला तो उन्होंने बदला लेने की ठानी और इस जगह का नाम बदलकर सुल्तानपुर कर दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi