S M L

दलितों को लुभाने के लिए बीजेपी चलाएगी ग्राम स्वराज अभियान

बाबा साहेब अंबेडकर के जन्मदिन पर शुरू हो रहा ग्राम स्वराज अभियान 20 मई तक चलेगा, इसका उन इलाकों पर खास ध्यान रहेगा, जहां दलित आबादी 80 फीसदी से ज्यादा है

FP Staff Updated On: Apr 09, 2018 04:25 PM IST

0
दलितों को लुभाने के लिए बीजेपी चलाएगी ग्राम स्वराज अभियान

संसद का बजट सत्र भले ही हंगामें की भेंट चढ़ गया हो, लेकिन इतना तो साफ है कि बीजेपी सांसदों और नेताओं की गर्मी की छुट्टियां नहीं होने वालीं. एक के बाद एक कार्यक्रम तय किए जा चुके हैं, जिसमें सांसदों और मंत्रियों के साथ-साथ कार्यकर्ताओ तक को पसीना बहाना पड़ेगा. दरअसल बीजेपी 14 अप्रैल को बाबा साहेब अंबेडकर के जन्मदिन के मौके पर ग्राम स्वराज अभियान शुरू करने जा रही है. यह कार्यक्रम 20 मई तक चलेगा और इसमें उन इलाकों पर खास ध्यान रहेगा, जहां दलितों की आबादी 80 फीसदी से ज्यादा है.

दरअसल SC/ST एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश भर में हुए दलितों के बंद के दौरान भड़की हिंसा ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है. ऐसे में पीएम मोदी चाहते हैं कि पूरी पार्टी और सरकार जोर-शोर से अपनी पार्टी की 'अंत्योदय' थीम यानि कतार में खड़े आखिरी व्यक्ति को आगे बढ़ाने के लक्ष्य को पूरा करने में लग जाए.

दलित आबादी वाले इलाकों पर रहेगा ध्यान

यही वजह रही कि संसद सत्र समाप्त होते ही सबके लिए काम तय कर दिए गए हैं. तय यह हुआ है कि 80 फीसदी से ज्यादा दलित आबादी वाले इलाकों में सरकार और पार्टी के तमाम लोग जाएंगे. इनकी जिम्मेदारी यह देखना होगा कि मोदी सरकार की योजनाओं का दलितों तक कितना लाभ पहुंचा है. एक महीने तक चलने वाले इस अभियान में सभी मंत्रियों और सांसदों को ये सुनिश्चित करना होगा कि वहां केंद्र सरकार की योजनाओं का क्रियान्वयन ठीक ढंग से हो.

पीएम मोदी ने तय किया है कि उनकी सरकार की तरफ से शुरू की गई 6 योजनाओं को इन दलित इलाकों में प्रभावी ढंग से लागू किया जाए. यहां सरकार का जोर उज्ज्वला योजना, उजाला कार्यक्रम, मिशन इंद्रधनुष के अलावा हर घर बिजली पहुंचाने से जुड़ी सौभाग्य योजना, जन धन योजना और पीएम जीवन ज्योति बीमा योजना का लाभ दलितों तक पहुंचाने पर है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद हुए आंदोलन ने बढ़ाई सरकार की चिंता

मोदी कैबिनेट की पिछली बैठक में इन तमाम योजनाओं को लेकर एक प्रेजेंटेशन दिया गया था और उम्मीद की जा रही है कि अगले हफ्ते पूरी मंत्री परिषद की बैठक होगी, जिसमें मंत्रिमंडल में शामिल सभी मंत्रियों के सामने इसका प्रेजेंटेशन किया जाएगा.

यूपी विधानसभा से लेकर कई चुनावों में बीजेपी ने जीत हासिल की तो लगा था कि दलित वोट बैंक बीजेपी की तरफ खिसकने लगा है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट के हालिया आदेश के बाद भड़की हिंसा ने पार्टी को फिक्र में जरूर ला दिया है. ऐसे में बीजेपी अब बिना वक्त गंवाए डैमेज कंट्रोल में लग गई है, जिसे खुद पीएम मोदी लीड कर रहे हैं. यानि इस बार बीजेपी के नेताओं के लिए गर्मी की छुट्टियों का होमवर्क आसान नहीं होगा, क्योंकि अगले साल ही बड़ी परीक्षा है.

(न्यूज-18 के लिए अमिताभ सिन्हा की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi