S M L

गौहत्या के दोषियों को फांसी होनी चाहिए: सुब्रमण्यम स्वामी

स्वामी ने कहा कि मुगल काल में बहादुर शाह जफर ने गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाया था, जबकि ब्रिटिश काल में गौ मांस का चलन बढ़ गया

Updated On: Feb 02, 2018 06:14 PM IST

FP Staff

0
गौहत्या के दोषियों को फांसी होनी चाहिए: सुब्रमण्यम स्वामी

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को राज्य सभा में गाय संरक्षण बिल पेश किया. बिल पेश करते हुए बीजेपी के राज्य सभा सांसद ने कहा कि मुगल काल में बहादुर शाह जफर ने गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाया था. जबकि ब्रिटिश काल में गौ मांस का चलन बढ़ गया.

सुब्रमण्यम स्वामी ने विज्ञान का हवाला देते हुए कहा कि यह बात साबित हो चुकी है कि गाय से मिलने वाले उत्पादों के कई फायदे हैं. गौ मूत्र का जिक्र करते हुए स्वामी ने सदन को बताया कि इसका कई दवाओं में इस्तेमाल होता है और अमेरिका ने इसका पेटेंट भी करवा लिया है. जबकि इस बारे में ऋषि-मुनियों ने हजारों साल पहले ही बता दिया था.

स्वामी ने कहा कि गौमांस के निर्यात की मांग बहुत ज्यादा है इसलिए इस धंधे में संलिप्त लोगों को भारी दंड मिलना चाहिए. गौमांस निर्यात के आरोपियों को अर्थदंड से फांसी तक की सजा होनी चाहिए.

हालांकि सीपीआई सांसद डी राजा ने स्वामी का विरोध करते हुए गाय का राजनीतिक इस्तेमाल करने का आरोप लगाया. सीपीआई सांसद ने गौहत्या के आरोप में दलितों और मुस्लिमों को हिंसक भीड़ का निशाना बनाए जाने की घटनाओं का जिक्र करते हुए कहा, कि स्वामी को गाय के नाम पर मारे जा रहे लोगों के बारे में भी सोचना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता
Firstpost Hindi