S M L

गोवा राजनीतिक संकट को संभालने के लिए मैदान में कूदे अमित शाह

पर्रिकर की अनुपस्थिति में उपमुख्यमंत्री का कार्यभार सुदिन धावलीकर को सौंपा गया था. जिसके बाद अन्य घटक दल नाराज हो गए, इसी के बाद अमित शाह नए विकल्प के साथ गठबंधन के दलों के पास गए हैं

Updated On: Sep 18, 2018 06:01 PM IST

FP Staff

0
गोवा राजनीतिक संकट को संभालने के लिए मैदान में कूदे अमित शाह

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह गोवा में चल रहे राजनीतिक उठा पटक को संभालने के लिए मैदान में कूद पड़े हैं. मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के अस्पताल में भर्ती होने के बाद कांग्रेस ने राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया है. इन्हीं सब घटनाक्रमों को देखते हुए अमित शाह ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विजय सरदेसाई से फोन पर बात की है. दरअसल, पर्रिकर के शनिवार को एम्स में भर्ती होने के बाद सुदिन धावलीकर को उप मुख्यमंत्री का पद दिया गया था, जिसे सरदेसाई की पार्टी ने मानने से इनकार कर दिया.

पर्रिकर ने शनिवार को दिल्ली जाने से पहले महाराष्ट्र गोमंतक पार्टी (एमजीपी) के धावलीकर को कार्यभार सौंपा था. इससे राज्य में बीजेपी के अन्य घटक दल नाराज हो गए.

गोवा फॉरवर्ड पार्टी और अन्य दल जो राज्य में बीजेपी का सपोर्ट कर रहे हैं, उन्होंने इस पर नाराजगी जताई है. इन दलों की मांग है कि किसी अन्य को स्थायी व्यवस्था के तौर पर कार्यभार दिया जाए. सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह नए विकल्पों के साथ गठबंधन के दलों के पास जाएंगे.

एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, विजय सरदेसाई और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के दो अन्य विधायकों के साथ तीन निर्दलीय विधायकों ने बीजेपी के केंद्रीय पर्यवेक्षकों से रविवार को मुलाकात की थी. राजनीतिक उठा पटक झेल रहे इस राज्य में बीजेपी को 6 विधायकों का समर्थन है, जिसमें तीन गोवा फॉरवर्ड पार्टी के हैं और 3 निर्दलीय. सत्ताधारी गठबंधन के लिए ये सबसे महत्वपूर्ण होने वाले हैं.

गोवा में सबसे बड़ी पार्टी है कांग्रेस

गोवा के 40 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में है और उसके 16 विधायक हैं. बीजेपी दूसरे नंबर की पार्टी है जिसके 14 विधायक हैं. 2017 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी ने सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस को पछाड़ते हुए गोवा फॉरवर्ड पार्टी, महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी (एमजीपी) और तीन निर्दलीय विधायकों के साथ मिलकर राज्य में सरकार बना ली थी.

मनोहर पर्रिकर की तबीयत बिगड़ने के बाद कांग्रेस बीजेपी की गठबंधन सरकार पर लगातार हमलावर रही है. पर्रिकर हाल ही में अमेरिका इलाज के लिए पहुंचे थे और शनिवार को ही दिल्ली एम्स में भर्ती हुए थे. इसके बाद कांग्रेस ने अपना हमला तेज कर दिया है. कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी एक नेतृत्व विहीन सरकार चला रही है.

राज्य की बीजेपी के पास भी एक समस्या है. पार्टी में दूसरे लाइन में ऐसे कोई नेता नहीं हैं जो इन जिम्मेदारियों को संभालने के लिए आगे आ सके. इसके साथ ही राज्य में मंत्री पद संभाल रहे कई नेताओं का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi