विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

छात्रों को ‘हिंदुत्व’ और ‘संघी’ सामान्य-ज्ञान रटा रही है बीजेपी

यूपी में छात्रों को जो सामान्य ज्ञान पुस्तिका पढ़ाई जा रही है उसमें महात्मा गांधी और नेहरू का कोई जिक्र नहीं है

Naveen Joshi Updated On: Aug 02, 2017 02:56 PM IST

0
छात्रों को ‘हिंदुत्व’ और ‘संघी’ सामान्य-ज्ञान रटा रही है बीजेपी

‘महाराजा सुहैल देव ने किस मुस्लिम आक्रांता को गाजर-मूली की तरह काट दिया था?', ‘अदालत में तलब किया जाकर सजा पाने वाला देश का पहला प्रधानमंत्री कौन था?’

उत्तर प्रदेश के हजारों स्कूलों में छात्र आजकल एक सामान्य-ज्ञान प्रतियोगिता के लिए ऐसे ही कुछ सवाल-जवाब रट रहे हैं. बीजेपी यह प्रतियोगिता दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती के अवसर पर 26 अगस्त को प्रदेश के अलग-अलग केंद्रों पर करा रही है. सामान्य-ज्ञान का पाठ्यक्रम भी बीजेपी ने ही तैयार किया है. इसके लिए तैयार एक पुस्तिका का लोकार्पण बीते सोमवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी लखनऊ यात्रा के दौरान किया.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के दिए अपने पहले भाषण में देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम का जिक्र नहीं होने और दीनदयाल उपाध्याय को महात्मा गांधी के बराबर स्थान दिये जाने से खफा कांग्रेस चाहे तो अब आगबबूला हो सकती है. बीजेपी ने इसका पूरा इंतजाम कर दिया है.

नई पीढ़ी को इन दिनों जो सामान्य ज्ञान उत्तर प्रदेश में रटाया जा रहा है उसमें नेहरू और महात्मा गांधी का कोई जिक्र नहीं है. विद्यार्थियों को आरएसएस और बीजेपी से जुड़े नेताओं की प्रशस्ति पढ़ाई जा रही है. इनमें वीर सावरकर, दीनदयाल उपाध्याय, श्यामा प्रसाद मुखर्जी, नानाजी देशमुख जैसे नेता शामिल हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया के सबसे ताकतवर और लोकप्रिय नेताओं में शुमार किया गया है.

File image

यूपी के हजारों स्कूलों के छात्र दीनदयाल उपाध्याय की जन्मशती पर आयोजित होने वाले सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे

हजारों स्कूलों में बांटी जा रही है सामान्य ज्ञान पुस्तिका

सत्तर पन्नों की सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता पुस्तिका प्रदेश के हजारों स्कूलों में बांटी जा रही है, जिसे कंठस्थ कर के छात्रों को प्रतियोगिता में हिस्सा लेना है. प्रश्न-पत्र इस पुस्तिका में बताये गये सामान्य-ज्ञान पाठों के आधार पर ऑब्जेक्टिव सवालों के रूप में होगा. छात्र-छात्राओं को डेढ़ घंटे में सौ सवालों के जवाब ‘ओएमआर’ शीट पर देने होंगे.

प्रतियोगिता का रिजल्ट शिक्षक दिवस यानी पांच सितंबर को जारी होगा. हर जिले में प्रथम दस स्थान पाने वाले छात्रों को 25 सितंबर को दीनदयाल उपाध्याय के जन्म दिवस पर पदक और प्रमाणपत्र से सम्मानित किया जाएगा. 60 फीसदी से अधिक अंक लाने वाले विद्यार्थी भी प्रमाणपत्र पाएंगे.

यूपी बीजेपी के सचिव सुभाष यदुवंश के हवाले से ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में बुधवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक ‘सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता’ नाम की इस पुस्तिका की अब तक सात लाख प्रतियां छप चुकी हैं. 9 हजार स्कूल नौवीं-दसवीं के अपने छात्रों को इस प्रतियोगिता-परीक्षा में शामिल कराने की सहमति दे चुके हैं.

पुस्तिका में जनसंघ, बीजेपी और संघ के प्रमुख नेताओं के अलावा राष्ट्रवाद, हिंदुत्व, आरएसएस, आदि के बारे में बताया गया है. दीनदयाल उपाध्याय की संक्षिप्त जीवनी, आरएसएस और जनसंघ के लिए उनके योगदान का परिचय है. बीजेपी के नए दलित प्रेम को देखते हुए इसमें बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के बारे में भी जानकारी दी गई है. साथ ही स्वामी विवेकानंद, गुरु गोविंद सिंह, बिरसा मुंडा और रानी लक्ष्मी बाई को भी शामिल किया गया है.

Ram Nath Kovind

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने दिए पहले भाषण में जवाहर लाल नेहरू के बारे में जिक्र नहीं किया था

गांधी और नेहरू का सामान्य-ज्ञान पुस्तिका में जिक्र नहीं

बीजेपी की सामान्य-ज्ञान पुस्तिका नई पीढ़ी को देश के पहले गवर्नर-जनरल, पहले राष्ट्रपति, पहले उप-राष्ट्रपति, पहले लोकसभा अध्यक्ष, पहले उप-प्रधानमंत्री, पहले कानून मंत्री, पहली महिला मुख्यमंत्री और पहली महिला राज्यपाल के बारे में तो बताती है. लेकिन देश के पहले प्रधानमंत्री के बारे में जानकारी देना जरूरी नहीं समझती. महात्मा गांधी पर भी पुस्तिका मौन है. अलबत्ता अटल बिहारी वाजपेयी और उनकी ‘सबसे बड़ी गठबंधन सरकार’ के बारे में बताना नहीं भूला गया है.

इंदिरा गांधी का जिक्र इस सवाल के सही जवाब के रूप में है कि दीनदयाल उपाध्याय की मृत्यु के समय देश का प्रधानमंत्री कौन था? इसी तरह नरसिंहा राव का नाम इस सवाल के सही जवाब में है कि अदालत में तलब होकर सजा पाने वाला देश का पहला प्रधानमंत्री कौन था? महाराजा सुहैल देव की बहादुरी का जिक्र करते हुए जो सवाल पुस्तिका में है, उसकी शब्दावली गौर करने लायक है- ‘महाराजा सुहैल देव ने किस मुस्लिम आक्रांता को गाजर-मूली की तरह काट दिया था?'

केंद्र की मोदी और उत्तर प्रदेश की योगी सरकारों की योजनाओं को भी सामान्य-ज्ञान में शामिल किया गया है. योजना आयोग के स्थान पर नीति आयोग बनाना, मोदी सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ अभियान, 1000 और 500 के पुराने नोटों की बंदी, आदि की जानकारी सवाल-जवाब के रूप में दी गई है. सेना के लिए ‘वन रैंक, वन पेंशन’, सीमा पार की गयी सर्जिकल स्ट्राइक, मुंबई से अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन और आकाशवाणी पर प्रधानमंत्री की ‘मन की बात’ भी इस सामान्य-ज्ञान में शामिल है.

बीजेपी की सामान्य-ज्ञान परीक्षा में अच्छे नंबर लाने के लिए नई पीढ़ी को रटना होगा कि मोदी सरकार की जन-धन योजना में 29.50 करोड़ बैंक खाते खोले गए. दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना में 18,452 गांवों को बिजली दी जा रही है.

Prime_Minister_Narendra_Modi_pays_tributes_to_Deendayal_Upadhyaya

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दीनदयाल उपाध्याय को अपनी श्रद्धांजलि देते हुए

सामान्य-ज्ञान पुस्तिका में योगी सरकार के कामकाज का जिक्र

चूंकि यह सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता उत्तर प्रदेश में हो रही है, इसलिए प्रदेश की योगी सरकार की योजनाओं-कार्यक्रमों, जैसे एंटी रोमियो दस्ते, किसानों की कर्ज माफी, आगरा और गोरखपुर हवाई अड्डों के नये नामकरण और कैलाश मानसरोवर यात्रियों को एक लाख रुपए की सहायता के बारे में बताया गया है.

बीजेपी की इस सामान्य-ज्ञान प्रतियोगिता से जाहिर है कि उग्र हिंदुत्व, राष्ट्रवाद और कांग्रेस-मुक्त भारत उसके एजेंडे का हिस्सा है. नई पीढ़ी को इस देश की बहुलतावादी परंपरा और गांधी-नेहरू के योगदान की हवा नहीं लगने देना है. ऐसे में देखना है कि बची-खुची कांग्रेस इस आक्रमण का मुकाबला किस तरह करती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi