S M L

बीजेपी-पीडीपी की 'दोस्ती' टूटी: जानिए क्या है राज्य विधानसभा का अंकगणित

बीजेपी-पीडीपी की सरकार गिरने के बाद अब जो राज्य में अंकगणित बन रहा है उसके हिसाब कांग्रेस की स्थिति बेहद महत्वपूर्ण हो गई है.

FP Staff Updated On: Jun 19, 2018 03:02 PM IST

0
बीजेपी-पीडीपी की 'दोस्ती' टूटी: जानिए क्या है राज्य विधानसभा का अंकगणित

जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी की दोस्ती टूट गई है. भारतीय जनता पार्टी के नेता राममाधव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसकी घोषणा कर दी है.

2014 में 25 नंवबर से 20 दिसंबर के बीच 87 सीटों के हुए विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी बनकर पीडीपी उभरी थी. उसके बाद दूसरे नंबर की पार्टी बीजेपी थी जिसके पास 25 सीटें थी. 15 सीटें जीत कर उमर अब्दुल्ला की अगुवाई वाली नेशनल कांफ्रेंस तीसरे नंबर पर थी और कांग्रेस के हिस्से आई थीं कुल 12 सीटें.

राज्य में सरकार बनाने के लिए 44 सीटों की आवश्यकता थी. जिसे बेमेल कहे जाने वाले बीजेपी-पीडीपी गठबंधन ने पूरा किया. बीते करीब साढ़े तीन सालों से ये दोनों पार्टी राज्य पर शासन कर रही हैं.

मंगलवार को संबंध-विच्छेद की घोषणा राम माधव ने कर दी हो लेकिन दोनों पार्टियों के बीच संबंध कभी सामान्य नहीं रहे. दोनों तरफ से तनातनी वाले बयान सामने आते रहे हैं. दिल्ली के राजनीतिक जानकारों ने तो हमेशा इस गठबंधन को अधर में ही पाया है.

जब से ये सरकार बनी है कि कश्मीर में हिंसा में कभी नहीं आई. लगातार हिंसा और आतंकी हमलों के बीच और भी ऐसे कई मामले हुए जिससे यह अंदेशा जताया जा रहा था कि ये गंठबंधन टूट सकता है.

अब क्या है अंकगणित

बीजेपी-पीडीपी की सरकार गिरने के बाद अब जो राज्य में अंकगणित बन रहा है उसके हिसाब कांग्रेस की स्थिति बेहद महत्वपूर्ण हो गई है.

अब अगर कर्नाटक की तर्ज पर कांग्रेस किसी गठबंधन के लिए आगे बढ़ती है तो उसे राज्य की दोनों क्षेत्रीय पार्टियों का सहयोग चाहिए होगा. हालांकि पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस राज्य की राजनीति में चिरप्रतिद्वंद्वी माने जाते हैं. लेकिन देश के अन्य राज्यों में जिस तरह पुराने विरोधी बीजेपी को सत्ता से दूर रखने के लिए साथ आ रहे हैं, ये उम्मीद की जा सकती है कि कश्मीर में भी पुराने दोस्त एक हो जाएं. पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस को साथ लाने में कांग्रेस की भूमिका बेहद असरदार हो सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi