S M L

नागरिकता संशोधन विधेयक पर BJP के पूर्वोत्तर सहयोगियों की बैठक आज, टूट सकते हैं संबंध

बीजेपी की पूर्वोत्तर की सहयोगी पार्टियां मंगलवार को गुवाहाटी में एक बैठक करने जा रही हैं, जिसमें वो विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक पर अपनी आपत्तियां पेश करेंगी

Updated On: Jan 29, 2019 11:33 AM IST

FP Staff

0
नागरिकता संशोधन विधेयक पर BJP के पूर्वोत्तर सहयोगियों की बैठक आज, टूट सकते हैं संबंध

बीजेपी की पूर्वोत्तर की सहयोगी पार्टियां मंगलवार को गुवाहाटी में एक बैठक करने जा रही हैं, जिसमें वो विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक पर अपनी आपत्तियां पेश करेंगी. उनके साथ बिहार में एनडीए की सहयोगी पार्टी जेडीयू और हाल ही में भगवा पार्टी से संबंध तोड़ने वाली असम गण परिषद (AGP) भी शामिल होंगी. कहा जा रहा है कि अगर बैठक में सहमति नहीं बनती है तो बीजेपी की सहयोगी पार्टियां उसके साथ संबंध तोड़ सकती हैं. वहीं एजीपी ने बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से गैर मुस्लिम नागरिकों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने के प्रावधान वाले इस प्रस्तावित विधेयक का विरोध किया है और इसी के चलते उसने बीजेपी से संबंध तोड़ लिए थे.

मेघालय के मुख्यमंत्री और राष्ट्रवादी पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष कोनराड के संगमा मंगलवार को सर्व क्षेत्रीय दलों की बैठक बुलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं. अगप बैठक में सह संयोजक है. मेघालय की सत्तारूढ़ पार्टी एनपीपी ने सोमवार को यह जानकारी दी. मिजोरम से एमएनएफ, नगालैंड से एनडीपीपी, त्रिपुरा से आईपीएफटी, सिक्किम से एसडीएफ के साथ ही एनपीपी के अरूणाचल प्रदेश, नगालैंड और मणिपुर के नेतृत्व ने भी बैठक में भाग लेने की पुष्टि कर दी है.

नीतीश कुमार की अगुवाई वाले जेडीयू के महासचिव के सी त्यागी गुवाहाटी पहुंच गए हैं. पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के भी शहर में आने की संभावना है. मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथंगा सोमवार को आइजोल से गुवाहाटी के लिए रवाना हो गए, जहां वह मंगलवार को होने वाली पूर्वोत्तर की क्षेत्रीय पार्टियों और मुख्यमंत्रियों की बैठक में भाग लेंगे. बैठक नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में हो रही है. सत्तारूढ़ मिजो नेशनल फ्रंट (एमएनएफ) पार्टी सूत्रों ने यह जानकारी दी. पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र में इस प्रस्तावित विधेयक को लेकर बड़े विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. ये लोग इस आधार पर विधेयक का विरोध कर रहे हैं कि इससे यहां के मूल निवासियों के अधिकारों का हनन होगा.

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi