S M L

टिकट के लिए भाई-भतीजावाद ठीक नहीं: प्रधानमंत्री मोदी

पीएम ने कहा कि बिना बेहतर बूथ मैनेजमेंट के चुनाव नहीं जीता जा सकता.

Updated On: Jan 07, 2017 09:16 PM IST

Amitesh Amitesh

0
टिकट के लिए भाई-भतीजावाद ठीक नहीं: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को विधानसभा चुनाव में जीत पक्की करने को कहा है.

दो दिन चली बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यमिति के समापन भाषण में मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं को जीत का गुरूमंत्र दिया है.

मोदी के गुरूमंत्र में पार्टी नेताओं को सख्त संदेश दे दिया गया है. कार्यसमिति में अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि पार्टी नेता अपने रिश्तेदारों, बेटे-बेटियों और भाई-भतीजों के टिकट के लिए दबाव न बनाएं.

मोदी ने साफ कर दिया कि संगठन को जो उचित लगेगा उसी को टिकट दिया जाएगा.

मोदी ने विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं को मिलकर काम करने की नसीहत दी है.

मोदी ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं को दिए गुरूमंत्र में बूथ मैनेजमेंट पर खास ध्यान देने को कहा है.

बूथ मैनेजमेंट की जरूरत है पार्टी को: मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि जिस तरह से जबरदस्त आंधी में भी साईकिल के ट्यूब में हवा नहीं भरा जा सकता, ठीक उसी तरह जनता की तरफ से पार्टी के पक्ष में जबरदस्त आंधी होने बावजूद बिना बेहतर बूथ मैनेजमेंट के चुनाव नहीं जीता जा सकता.

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार का फोकस गरीब कल्याण के उपर है. मोदी ने पार्टी कार्यकर्ताओं से गरीब और किसान के लिए काम करने की अपील की.

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कार्यसमिति की बैठक के बाद प्रधानमंत्री के भाषण का जिक्र करते हुए बताया कि, गरीब और गरीबी हमारे लिए चुनाव जीतने का माध्यम नहीं है, ये सेवा का अवसर है. मोदी ने गरीबों की सेवा को प्रभु की सेवा बताया.

उन्होंने पारदर्शी राजनीतिक फंड की शुरुआत पर बल दिया और कहा कि पार्टी को इस दिशा में सोंचना चाहिए, भले ही कोई और सोचे या ना सोचे.

दरअसल, मोदी विधानसभा चुनाव के लिए एजेंडे को बखूबी समझते हैं. उन्हें इस बात का एहसास है कि विधानसभा चुनाव उनके और पार्टी के लिए कितना महत्वपूर्ण हैं.

लिहाजा, पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को साफ संदेश दे रहे हैं. पार्टी कार्यकर्तों को जीत का गुरुमंत्र देने वाले मोदी भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई को और आगे बढ़ाने में लगे हैं.

नोटबंदी के कदम को भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ बड़ी लड़ाई के तौर पर पेश कर रहे मोदी विधानसभा चुनाव में इस मुद्दे को अपने एजेंडे में सबसे उपर रखने वाले हैं.

इसकी एक झलक बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में भी देखने को मिली है, जब उन्होंने नोटबंदी के मुद्दे पर पूरे देश की सवा सौ करोड़ जनता का साथ होने का दावा किया और भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने अभियान पर फिर जोर दिया.

मोदी पहले भी नोटबंदी को गरीब के हित में बताते नहीं थकते, एक बार फिर से नोटबंदी को गरीबों के हित में बताकर उन्हें अपने पाले में लाने की कोशिश की.

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने पहले ही नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार की पीठ थपथपा कर पार्टी कार्यकर्ताओं को चुनाव के लिए तैयार रहने का संदेश दे दिया है.

अमित शाह के एजेंडे में नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक सबसे उपर है. अब मोदी का गुरूमंत्र लेकर पार्टी नेता और कार्यकर्ता महासमर की तैयारी में लग गए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi