S M L

लोकसभा: BJP ने तख्ती दिखाई 'राहुल गांधी माफी मांगें', सोनिया हुईं नाराज

एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने भी कहा था कि राफेल जेट सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश से कांग्रेस का 'झूठ उजागर' होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष को देश के लोगों, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और सशस्त्र बलों से माफ़ी मांगनी चाहिए

Updated On: Dec 18, 2018 03:33 PM IST

FP Staff

0
लोकसभा: BJP ने तख्ती दिखाई 'राहुल गांधी माफी मांगें', सोनिया हुईं नाराज

बीजेपी ने राफेल सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी पर हमला करना जारी रखा है. मंगलवार को पार्टी सांसदों ने लोकसभा में कांग्रेस अध्यक्ष से माफ़ी मांगने की मांग की.

बीजेपी के सांसद लोकसभा में तख्ती लेकर आए थे जिसपर लिखा था, 'राहुल गांधी माफी मांगे.' वहीं दूसरी तरफ, विपक्ष ने 'गली गली में शोर है, मोदी सरकार चोर है' के नारे लगा रहे थे.

न्यूज18 के मुताबिक यूपीए अध्यक्ष को पक्ष विपक्ष का ये विरोध अच्छा नहीं लगा और उनके चेहरे पर ये साफ नजर आ रहा था. वो अपनी कुर्सी से खड़ी हो गई और स्पीकर से अनुरोध किया कि मल्लिकार्जुन खड़गे को बोलने दिया जाए. इसके बाद उन्होंने कांग्रेस की फ्लोर को-ऑर्डिनेटर सुष्मिता देब को निर्देश भी दिए. जब कांग्रेस अध्यक्ष 12:15 बजे सदन में आए, तो सोनिया गांधी ने उन्हें अपने पास बैठने के लिए बुलाया और उनसे बातचीत की.

ये भी पढें: राफेल और सिख दंगों को लेकर कांग्रेस पर हमलावर हुए पीएम, कहा-अब है पारदर्शी सरकार

इसके पहले अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने दोपहर तक सदन को स्थगित कर दिया था. गृह मंत्री राजनाथ सिंह सदन में उपस्थित थे.

loksabha

फाइल फोटो

एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने भी कहा था कि राफेल जेट सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश से कांग्रेस का 'झूठ उजागर' होने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष को देश के लोगों, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और सशस्त्र बलों से माफ़ी मांगनी चाहिए.

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने 36 राफेल जेटों की खरीद के लिए भारत और फ्रांस के बीच सौदे को चुनौती देने वाली याचिकाओं को खारिज कर दिया था. साथ ही कोर्ट ने कहा था कि अनुबंध के अलावा 'निर्णय लेने की प्रक्रिया पर संदेह करने' का कोई कारण नहीं है.

कांग्रेस ने 36 राफेल जेट विमान के लिए बीजेपी के समझौते की बार-बार आलोचना की है. कांग्रेस ने लगातार ये आरोप लगाया है कि सरकार यूपीए सरकार द्वारा 526 करोड़ रुपए के मुकाबले 1,670 करोड़ रुपए से अधिक की लागत से प्रत्येक विमान खरीद रही है.

हालांकि, सरकार ने सौदे में किसी भी अनियमितता से इंकार कर दिया था.

ये भी पढे़ं: 'जब तक पीएम मोदी किसानों का कर्ज माफ नहीं करेंगे तब तक उन्हें सोने नहीं देंगे'

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi