S M L

विभाजन के जिम्मेदार जिन्ना, AMU से हटे तस्वीर: शाहनवाज हुसैन

शाहनवाज हुसैन ने सवाल खड़ा किया कि आजादी के पहले की ही तस्वीर है तो इसकी अब क्या जरूरत है, क्यों लगी हुई है एमयू में

Amitesh Amitesh Updated On: May 03, 2018 03:04 PM IST

0
विभाजन के जिम्मेदार जिन्ना, AMU से हटे तस्वीर: शाहनवाज हुसैन

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा है कि मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से तुरंत हटाई जानी चाहिए. शाहनवाज हुसैन ने जिन्ना को भारत के बंटवारे के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि जिन्ना की जिद ने ही भारत का बंटवारा करा दिया, वरना आज भारत पूरे इलाके में बड़ी महाशक्ति होता.

फ़र्स्टपोस्ट से बातचीत के दौरान शाहनवाज हुसैन ने कहा, ‘अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर की कोई जरुरत नहीं है. जिन्ना की टू नेशन थ्योरी थी. जिसने न केवल हिंदुस्तान का नुकसान किया, बल्कि इस पूरे इलाके में भारत एक बड़ी शक्ति होती, उसको रोकने का काम किया. जिन्ना की सोच ऐसी थी जिसमें बहुत अड़ने वाली सोच थी. भारत के मुसलमानों ने पाकिस्तान मांगा नहीं था जिस शिद्दत से जिन्ना ने अपनी जिद में बनवाया.' उन्होंने कहा कि जिन्ना ने अपने ईगो में अलग पाकिस्तान बनवाया.

'आजादी से पहले लगी थी, तो अब भी क्या जरूरत?'

उन्होंने कहा, जब इस मुल्क का बंटवारा हुआ तो बंटवारे में कई चीजें पाकिस्तान चली गई. जैसे आबादी भी गई, रिजर्व बैंक के पैसे में भी बंटवारा हुआ, तो फिर यह तस्वीर क्यों रखी गई है. इसको भी दे देना चाहिए. यह तस्वीर भी पाकिस्तान एम्बेसी को लेकर जाकर सौंप देनी चाहिए. उन्होंने सवाल खड़ा किया कि आजादी के पहले की ही तस्वीर है तो इसकी अब क्या जरूरत है, क्यों लगी हुई है एमयू में.

उन्होंने कहा कि एमयू के छात्रों के प्रेरणास्रोत एपीजे अब्दुल कलाम और मौलाना आजाद हो सकते हैं. जिन्ना नहीं, ऐसे में एमयू के छात्र संघ के हॉल में इस तस्वीर का क्या मतलब है. उन्होने कहा कि भारत रत्न हैं बिस्मिल्ला खान, भारत रत्न हैं ए पी जे अब्दुल. इनकी कलाम की तस्वीर वहां लगानी चाहिए जिनकी पूरे हिंदुस्तान में इज्जत है.

'जिन्ना से भारत का मुस्लिम भी नाराज'

हालांकि तस्वीर विवाद में योगी सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य का बयान बीजेपी के बयान से बिल्कुल उलट है. इस मुद्दे पर पार्टी के भीतर मतभेद पर शाहनवाज हुसैन का कहना है कि यह स्वामी प्रसाद मौर्य की व्यक्तिगत सोच है. लेकिन, हमारी राय है कि जिन्ना की तस्वीर हिंदुस्तान के बच्चों के दिमाग में अच्छी बात नहीं डालती. तस्वीर इज्जत से लगाई जाती है. लेकिन, जिन्ना के लिए तो भारत का मुसलमान ही बहुत नाराज रहता है.

उन्होंने कहा कि अगर आप देखेंगे कि जिन्ना के प्रति नाराजगी जितना भारत के हिंदू में है, उतनी ही नाराजगी मुसलमानों में भी मिलेगी. जिन्ना ने मुल्क को नहीं बांटा होता तो आज न तो सीमा पर झगड़ा हो रहा होता और न ही आतंकवाद इस तरह होता, जो व्यक्ति हिंदुस्तान की बर्बादी का जिम्मेदार हो, उसकी तस्वीर क्यों लगाएं.

शाहनवाज हुसैन ने कहा ये ठीक है कि वो व्यक्ति अपने मुल्क का कायदे आजम है तो उसकी तस्वीर वहां पर लगे. लेकिन, जिन्ना की इज्जत तो पाकिस्तान में भी नहीं है, तो फिर क्यों हिंदुस्तान उनकी इज्जत को ढोता रहे. बंटवारे के दोषी सिर्फ और सिर्फ जिन्ना ही थे, जिन्ना की जिद से बंटवारा हुआ और कुछ कुर्सी के और लोग लालची होंगे, लेकिन, बंटवारे के मुख्य जिम्मेदार तो जिन्ना ही थे. लिहाजा उनकी तस्वीर को हर हाल में एमयू से हटा देना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Social Media Star में इस बार Rajkumar Rao और Bhuvan Bam

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi