S M L

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए BJP नेताओं को दी जा रही ट्रेनिंग

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रभारी और पार्टी महासचिव मुरलीधर राव ने बताया कि लोकसभा चुनावों के लिए बीजेपी के नेताओं को मीडिया से रूबरू होने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं

Updated On: Jun 17, 2018 01:50 PM IST

Bhasha

0
लोकसभा चुनाव 2019 के लिए BJP नेताओं को दी जा रही ट्रेनिंग

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में 50 प्रतिशत वोट हासिल करने की कोशिशों के तहत बीजेपी इस साल के अंत तक पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण कार्यक्रम के दूसरे चरण को पूरा करने पर जोर दे रही है. इस सिलसिले में पार्टी नेताओं को मीडिया से रूबरू होने के लिए विस्तृत दिशानिर्देश जारी किये गए हैं और उन्हें सफलता के गुर सुझाए गए हैं.

बीजेपी के प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रभारी और पार्टी महासचिव मुरलीधर राव ने बताया, 'प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में केंद्र सरकार के कार्यक्रमों, उनकी योजनाओं, लक्ष्य और जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने की तैयारी का ब्यौरा है. इसमें राज्य सरकारों की उपलब्धियों और सुशासन एवं विकास के संदर्भ में कार्यक्रमों को भी जोड़ा गया है ताकि मीडिया और अन्य माध्यमों के जरिए जनता से संवाद को मजबूत बनाया जाए और विपक्ष के दुष्प्रचार का मुकाबला किया जा सके.'

कुछ दिन पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ‘पंडित दीनदयाल उपाध्याय महाप्रशिक्षण अभियान’ से जुड़ी दिशा-निर्देश पुस्तिका जारी की थी. पीजेपी के प्रशिक्षण प्रकोष्ठ के एक पदाधिकारी ने बताया कि इस प्रशिक्षण पुस्तिका और दिशानिर्देश के 2 आयाम हैं. इसमें पहला आयाम सिद्धांत से जुड़ा है और दूसरा तकनीकी आयाम है.

प्रशिक्षण दिशानिर्देश पुस्तिका में ‘द मीडिया: एप्रेच एंड स्ट्रैटजी’ में कहा गया है कि पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को अपना आचार व्यवहार सौम्य, शांत रखना चाहिए और मृदुभाषी होना चाहिए. मीडिया में चर्चा के दौरान पार्टी लाइन का पालन करना चाहिए. पार्टी नेताओं की बाइट छोटी और सारगर्भित (मतलब निकलने वाली) होनी चाहिए ताकि ज्यादा संपादन नहीं करना पड़े और सहजता से इस्तेमाल किया जा सके.

bjp

बीजेपी कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया के संबंध में दिए गए सुझाव

इसमें सोशल मीडिया के संबंध में भी कुछ सुझाव दिए गए हैं. कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया पर किसी टिप्पणी पर उकसावे में नहीं आने, ट्रेंड कर रहे विषय पर नजर रखने, लोगों का मत जानने से लेकर जवाब देने और विश्लेषण करने आदि की सलाह दी गई है.

पदाधिकारी ने बताया कि पहले यह पता नहीं चलता था कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में कितने कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया. इसे देखते हुए पार्टी ने प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में एक साफ्टवेयर तैयार किया गया है जो मोबाइल से समर्थित है. इससे मंडल स्तर तक प्रशिक्षण कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले कार्यकर्ताओं की जानकारी मिल रही है.

उन्होंने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम चरण में 10 लाख कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित (ट्रेनिंग) किया गया है. दूसरे चरण को इस वर्ष के अंत तक पूरा करने का इरादा है. इसका लक्ष्य आने वाले 15 से 20 वर्षो में पंचायत से लेकर संसद तक पार्टी को गुणवत्तापूर्ण नेतृत्व प्रदान करने और जनता की अपेक्षाओं को पूरा करने वाला समर्पित कार्यकर्ता वर्ग तैयार करना है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi