S M L

यूपी चुनाव: नारे और जुमलों का तड़का लगाकर यूपी जीतेगी बीजेपी

बीजेपी ने समाजवादी पार्टी और बीएसपी के लिए अलग-अलग नारे बनाकर चुनाव में घेरने की तैयारी की है

Updated On: Jan 18, 2017 10:42 AM IST

Amitesh Amitesh

0
यूपी चुनाव: नारे और जुमलों का तड़का लगाकर यूपी जीतेगी बीजेपी
Loading...

चुनावी मौसम में नए-नए नारे और जुमलों का खूब इस्तेमाल होता है. बीजेपी की तरफ से इस बार इसकी खूब तैयारी हो रही है. पार्टी ने यूपी के लिए खास तौर पर कई नए जुमले बनाकर रखे हैं.

2014 के लोकसभा चुनाव में ‘अबकी बार मोदी सरकार’ के नारे को बीजेपी ने जोर-शोर से उठाया था. लेकिन, इस बार यूपी में उसका नारा है ‘अबकी बार भाजपा सरकार’.

लोकसभा चुनाव के वक्त बीजेपी का पास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा था. जिसको आगे कर बीजेपी ने चुनाव में एकतरफा जीत हासिल की थी.

यहां तक कि यूपी में मोदी लहर पर सवार होकर बीजेपी ने 80 में से 73 सीटों पर जबरदस्त जीत हासिल की थी. पार्टी के पास यूपी में इस बार मुख्यमंत्री पद के लिए कोई चेहरा नहीं है, लिहाजा पार्टी इस बार भी नरेंद्र मोदी के चेहरे के सहारे ही चुनाव लड़ रही है.

एसपी और बीएसपी के लिए अलग-अलग नारा

‘अबकी बार भाजपा सरकार’ के नारे के अलावा बीजेपी समाजवादी पार्टी और बीएसपी के खिलाफ चुनाव मैदान में पूरे दमखम से प्रचार अभियान में जुटी है. इसकी एक झलक बीजेपी के नारों में देखने को मिल रही है.

ये भी पढ़ें: रहस्य गढ़ने में माहिर मुलायम सिंह को खत्म मत समझिए

BJP Slogan

यूपी का किला फतह करने के लिए बीजेपी इस बार के चुनाव में नए नारों और जुमलों के साथ आई है

अखिलेश यादव सरकार को बीजेपी गुंडा राज बताकर इसकी हवा निकाल रही है. बीजेपी का अखिलेश यादव सरकार के खिलाफ नारा है, ‘गुंडागर्दी के ठेकेदार, नहीं चाहिए सपा सरकार’.

इसके अलावा भ्रष्टाचार को लेकर बीजेपी समाजवादी पार्टी सरकार के खिलाफ नारा दे रही है, ‘ट्रांसफर पोस्टिंग मे कमाया अपार, नहीं चाहिए सपा सरकार’. बीजेपी ने किसानों को लुभाने के लिए भी नया नारा दिया है, ‘यूपी का किसान है बदहाल, उखाड़ फेंको ऐसी निठल्ली सरकार’.

ये भी पढ़ें: क्या बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन सफलता की गारंटी है

बीजेपी के निशाने पर बीएसपी और मायावती भी रहे हैं. समाजवादी पार्टी के साथ बीजेपी अपनी लड़ाई को आमने-सामने रखना चाहती है. लेकिन, पार्टी के सामने बीएसपी से भी चुनौती है.

बीजेपी को लग रहा है कि अगर बीएसपी मजबूत होती है तो उसके वोट बैंक में भी कुछ हद तक सेंधमारी हो सकती है. लिहाजा, लोकसभा चुनाव की तरह ही बीजेपी इस बार भी बीएसपी को कमजोर करना चाहती है. भ्रष्टाचार के खिलाफ पार्टी ने नया नारा दिया है, ‘घोटालों की भरमार, नहीं चाहिए बीएसपी सरकार’.

bjp maharally lucknow

बीजेपी ने साफ कर दिया है कि पीएम मोदी ही यूपी में उसके सबसे बड़े स्टार प्रचारक होंगे

नारे-जुमलों से चुनावी माहौल गरमाने की कोशिश

समाजवादी पार्टी के शासनकाल में कानून व्यवस्था का मुद्दा और बीएसपी के शासन काल में भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर बीजेपी यूपी में परिवर्तन का नारा दे रही है. पार्टी की तरफ से इस बार यूपी चुनाव में ‘न गुंडाराज, न भ्रष्टाचार, अबकी बार भाजपा सरकार’ का नारा दिया गया है.

बीजेपी जानती है कि इस बार प्रदेश में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस दोनों मिलकर चुनाव मैदान में उतरने को तैयार हैं. ऐसे में बीजेपी ने एक और नारा देकर जनमानस को लुभाने की कोशिश की है. पार्टी का नारा है ‘पंजा, साइकिल और हाथी, सब भ्रष्टाचार के साथी. कमल खिलाएं, यूपी बचाएं’.

बीजेपी में भले ही यूपी चुनाव के उम्मीदवारों के नाम को लेकर माथापच्ची चल रही हो. लेकिन, उसके पहले से ही पार्टी ने अपने नारों और जुमले से चुनावी माहौल को गरमाना शुरु कर दिया है.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi