S M L

BJP के महासचिव का राहुल पर हमला- 2018 में भी युवा नेता ही रहेंगे क्या?

राम माधव ने कहा कि राहुल गांधी चिरयुवा हैं. 10 साल पहले भी वो युवा नेता थे और आज भी युवा नेता ही हैं

Updated On: Sep 25, 2018 11:59 AM IST

FP Staff

0
BJP के महासचिव का राहुल पर हमला- 2018 में भी युवा नेता ही रहेंगे क्या?

बीजेपी के महासचिव राम माधव ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर कई मुद्दों को लेकर जमकर हमला बोला. इस दौरान उन्होंने एक अटपटी बात भी बोली. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी चिरयुवा हैं. 10 साल पहले भी वो युवा नेता थे और आज भी युवा नेता ही हैं.

न्यूज18 की रिपोर्ट के मुताबिक, सोमवार को राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर काम करने वाली संस्था प्रज्ञा भारती के एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे राम माधव ने विपक्ष, खासकर कांग्रेस पर कई निशाने साधे. उन्होने कहा कि विपक्ष के नेता भारत के नेतृत्व पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणी को बढ़ावा दे रहे हैं.

उन्होंने कहा, 'आज जब कश्मीर में पाकिस्तान की बर्बरता के चलते मोदी सरकार ने पाकिस्तान के खिलाफ कड़ा फैसला लिया है और कल को सत्ता में आए हुए इमरान खान पीएम मोदी को अपशब्द कहते हैं और ये विपक्ष के लोग भारत में उनके शब्दों को बढ़ावा दे रहे हैं.'

उन्होंने कहा कि 'आपस में हममें 100 मतभेद हो सकते हैं. आप हमसे लड़ते हैं. आप राफेल पर झूठ पर झूठ पर झूठ बोलते लेकिन कम से कम भारत के संवैधानिक सरकार के प्रमुख की इज्जत तो करिए, वो 125 करोड़ भारतीयों के प्रधानमंत्री हैं.' उन्होंने याद दिलाया कि जब पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को 2013 में देहाती औरत कहा था, तो नरेंद्र मोदी ने इसका कड़ा विरोध किया था.

उन्होंने कहा कि 10 साल से युवा नेता बने रहने वाले राहुल गांधी को आत्म-सम्मान जैसे भारतीय मूल्य को खुद में समाहित करना नहीं आता.

उन्होंने महागठबंधन पर हमले बोलते हुए कहा कि विपक्षी पार्टियों का कोई एजेंडा नहीं है, वो बस मोदी को आगे बढ़ने से रोकना चाहती हैं इसलिए एक समूह बना रही हैं और उसको महागठबंधन का नाम दे रही हैं.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कुछ अलोकप्रिय फैसले लिए लेकिन वो जरूरी थे. उनका कहना था कि विपक्ष नोटबंदी को असफल बता रहा है लेकिन भारतीय समझदार हैं उन्हें पता है कि नोटबंदी काले धन को वापस सिस्टम में लाने में सफल रही लेकिन विपक्ष को ये नहीं दिखता.

उन्होंने यहां स्वदेश भक्ति, स्वधर्म निष्ठा और स्वाभिमान जैसे सिद्धांतों पर राष्ट्रवादी राह बनाने का आग्रह किया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi