S M L

प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न देने के फैसले को राजनीति से जोड़ना गलत: कैलाश विजयवर्गीय

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न दिए जाने पर इसे बीजेपी की बंगाल रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है

Updated On: Jan 26, 2019 06:12 PM IST

FP Staff

0
प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न देने के फैसले को राजनीति से जोड़ना गलत: कैलाश विजयवर्गीय

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को 'भारत रत्न' से सम्मानित किए जाने के नरेंद्र मोदी सरकार के फैसले को दलीय राजनीति से जोड़कर देखे जाने की बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने शनिवार को निंदा की.

विजयवर्गीय ने पत्रकारों से कहा, 'मैं एक टीवी चैनल पर कल चर्चा सुन रहा था कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी को मजबूत करने के लिए प्रणब दा को भारत रत्न से नवाजे जाने का फैसला किया गया है. तब मुझे लग रहा था कि इस तरह की चर्चा कर रहे लोग प्रणब दा का सीधे अपमान कर रहे हैं.'

पश्चिम बंगाल के प्रभारी बीजेपी महासचिव ने कहा, 'प्रणब दा को भारत रत्न से नवाजे जाने का फैसला इस सम्मान की निष्पक्षता का सबसे बड़ा प्रमाण है. इस सम्मान के लिए उनके नाम के चयन को दलीय राजनीति से जोड़कर अनर्गल टीका-टिप्पणी किया जाना सरासर गलत है. मैं ऐसी टिप्पणियों की निंदा करता हूं.'

विजयवर्गीय ने कहा, 'प्रणब दा वह व्यक्तित्व हैं जो किसी भी पद के मोहताज नहीं हैं. वह जिस भी कुर्सी पर बैठे, उन्होंने उस कुर्सी का सम्मान बढ़ाया.' उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने मुखर्जी की कीमत पहचानी और उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान से नवाजे जाने का निर्णय किया.

विजयवर्गीय ने जोर देकर कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार ने किसी भी व्यक्ति को उपकृत करने के लिए राष्ट्रीय सम्मान नहीं बांटे हैं. उन्होंने कहा, 'मोदी सरकार के कार्यकाल में राष्ट्रीय सम्मान उन्हीं लोगों को दिए गए हैं, जो इनके योग्य थे.'

अपने पिता को भारत रत्न दिए जाने पर उनकी बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि 'मेरे पिता ने बंगाल के एक बहुत ही दूरदराज गांव से अपना सफर शुरू किया. वहां किसी तरह का कोई विकास नहीं था, रोड नहीं थे, बिजली नहीं थी. उन्हें स्कूल जाने के लिए हर रोज 10 किमी सफर करना पड़ता था. वहां से भारत रत्न मिलने तक उन्होंने एक लंबा सफर पूरा किया है.'

(एजेंसी से इनपुट के साथ)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi