S M L

संसद डायरी: और कितने दिनों तक बाधित होगी संसद?

राहुल गांधी की जिद के चलते ही सरकार के साथ सहमति नहीं बन पाई.

Updated On: Dec 02, 2016 11:43 PM IST

सुरेश बाफना
वरिष्ठ पत्रकार

0
संसद डायरी: और कितने दिनों तक बाधित होगी संसद?

नोटबंदी पर संसद की कार्यवाही और कितने दिनों तक बाधित करना चाहिए?

इस सवाल पर अब कांग्रेस पार्टी के भीतर बहस शुरू हो गई है. पार्टी के कई वरिष्ठ नेताअों का मानना है कि अगले सोमवार से दोनों सदनों के भीतर नोटबंदी पर बहस होनी चाहिए. कहा जा रहा है कि राहुल गांधी की जिद के चलते ही सरकार के साथ सहमति नहीं बन पाई.

राहुल गांधी का मानना है कि नोटबंदी की वजह से अगले कुछ दिनों के भीतर हालात और भी खराब होंगे, इसलिए संसद की कार्यवाही को बाधित करने से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की स्थिति निरंतर कमजोर होगी. आज कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में राहुल गांधी ने अपने भाषण में संसद में जारी गतिरोध पर एक शब्द नहीं बोला.

राहुल की चुप्पी का यह अर्थ भी निकाला जा रहा है कि वे अगले सोमवार को अपने रुख में बदलाव कर सकते हैं.

मायावती की बढ़ी सक्रियता

जब से मोदी सरकार ने नोटबंदी की है, संसद में बसपा सुप्रीमो मायावती की सक्रियता कई गुना बढ़ गई है. मोदी सरकार पर हमला करने का कोई भी मौका वे नहीं छोड़ती है. आज भी जब तृणमूल कांग्रेस के नेताअों ने जब पश्चिम बंगाल में सैनिक गतिविधि का मामला उठाया तो मायावती ने तुरंत ममता का समर्थन करना जरुरी समझा.

भाजपा के नेता व सांसद पहले इस बात का ध्यान रखते थे कि मायावती के खिलाफ कोई टिप्पणी न की जाए, लेकिन नोटबंदी के बाद भाजपा का रवैया पूरी तरह बदल गया है. अब भाजपा के सभी सांसद मायावती द्वारा कही गई बातों का सामूहिक विरोध करते हुए दिखाई देते हैं. एक जमाना था जब मायावती ने गुजरात विधानसभा चुनाव में मोदी के समर्थन में रैलियां की थीं.

मायावती नोटबंदी का जमकर विरोध कर रही हैं, लेकिन बसपा उन 14 दलों में शामिल नहीं है, जिन्होंने नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को ज्ञापन सौंपा था।

राहुल गांधी ने थामा मोर्चा 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीमार होने के बाद कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में अध्यक्षता करने की ‍जिम्मेदारी राहुल गांधी के कंधों पर आ गई है. वर्ष 2004 में राहुल अमेठी से लोकसभा के सांसद चुने गए थे. सक्रिय राजनीति में बारह साल बीत जाने के बाद भी वे स्वत:स्फूर्त भाषण देने की कला में पारंगत नहीं हो पाए हैं. आज हुई कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में राहुल ने अपनी मां सोनिया गांधी की तरह लिखा हुआ भाषण ही पढ़ा.

जिस तरह भाजपा संसदीय दल में अरुण जेटली द्वारा दिए गए भाषण का वीडियो जारी किया गया था, लगभग उसी शैली में कांग्रेस पार्टी ने भी राहुल गांधी का वीडियो जारी कर जवाबी कार्रवाई की. संसद की कार्यवाही पूरी तरह ठप होने के बाद अब भाजपा व कांग्रेस के बीच मीडिया-युद्ध शुरु हो गया है.

बीजेपी ने जारी किया व्हिप

भारतीय जनता पार्टी ने व्हिप जारी करके अपने सांसदों से कहा है कि वे अगले सप्ताह सदन में मौजूद रहें. इस व्हिप का यह अर्थ लगाया जा रहा है कि यदि विपक्ष ने कार्यवाही में बाधा पहुंचाने का अभियान जारी रखा तो लोकसभा में शोरशराबे के बीच जीएसटी से जुड़े विधेयकों को पारित कराने की कोशिश की जाएगी.

संसद के पिछले सत्र में लगभग सभी राजनीतिक दलों ने जीएसटी से सं‍बंधित संविधान संशोधन विधेयक का समर्थन किया था, इसलिए विपक्ष के लिए मुश्किल होगा कि वह इससे जुड़े दो विधेयकों के पारित कराने में बाधा डालें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi