विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

8 नवंबर को बीजेपी 'नोटबंदी माफी दिवस' के रूप में मनाए: मायावती

मायावती ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार बड़े-बड़े पूंजीपतियों की ही सरकार है और उनके हित तथा फायदे के लिए सब कुछ करने को तैयार रहती है

Bhasha Updated On: Nov 08, 2017 03:33 PM IST

0
8 नवंबर को बीजेपी 'नोटबंदी माफी दिवस' के रूप में मनाए: मायावती

बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा एक साल पहले जल्दबाजी में उठाए गए ‘नोटबंदी’ के कदम से भ्रष्टाचार के अनेक नए स्रोतों का जन्म हुआ, जिसका लाभ ‘बीजेपी एंड कंपनी’ के करीबी और चहेते लोगों ने ही उठाया है.

बीएसपी अध्यक्ष ने ‘नोटबंदी’ का एक साल पूरा होने पर संवाददाताओं से कहा कि आठ नवंबर, 2016 को मोदी सरकार द्वारा जल्दबाजी में अपरिपक्व तरीके से 500 तथा 1,000 रुपए के मौजूदा नोटों को चलन से बाहर कर दिया गया. यह कदम मुट्ठीभर चहेते नेताओं और उद्योगपतियों को छोड़कर पूरे देश के लिए संकट साबित हुआ.

मायावती ने कहा कि भ्रष्टाचार तथा काले धन के अभिशाप से देश के लोग काफी दुखी हैं, लेकिन इससे छुटकारा मिलता हुआ कहीं नजर नहीं आ रहा है. ‘नोटबंदी’ से तो अनेक प्रकार के नए भ्रष्टाचार के स्रोतों का जन्म हुआ है जिसका लाभ ‘बीजेपी एंड कंपनी’ के करीबी और चहेते लोगों ने उठाया.

उन्होंने नोटबंदी को भारत के इतिहास का एक काला अध्याय बताते हुए कहा कि ‘पैराडाइज पेपर भांडाफोड़’ और मीडिया द्वारा अन्य रहस्योद्घाटन इस बात को प्रमाणित करते हैं कि बीजेपी एंड कंपनी के लोग जनता को ठग रहे हैं.

'बड़े पूंजीपतियों की सरकार है मोदी सरकार'

बीएसपी अध्यक्ष ने कहा कि नोटबंदी के संबंध में सरकारी दावे एक के बाद एक पूरी तरह गलत और झूठे साबित हो रहे हैं. क्या बीजेपी और मोदी सरकार इसके लिए जनता से माफी मांगेगी? उन्होंने कहा, बीएसपी की सलाह है कि बीजेपी नोटबंदी का एक साल पूरा होने के अवसर को ‘एंटी ब्लैक मनी डे’ मनाने के स्थान पर ‘नोटबंदी माफी दिवस’ के रूप में मनाए.

मायावती ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार बड़े-बड़े पूंजीपतियों की ही सरकार है और उनके हित तथा फायदे के लिए सब कुछ करने को तैयार रहती है. इसका एक और उदाहरण तब उजागर हुआ जब अभी हाल ही में सरकारी बैंकों को 2.11 लाख करोड़ रुपए की अतिरिक्त पूंजी मुहैया कराई गई है, जबकि इन्हीं धन्नासेठों को अनुचित लाभ पहुंचाने की नीति के कारण ही सरकारी बैंक कंगाल बन गए हैं. साथ ही देश की आम जनता की गाढ़ी कमाई का धन बैंकों में डूबता जा रहा है.

उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेता और मंत्री लगातार धन्नासेठ बनते जा रहे हैं, बीजेपी धन प्रवाह से लगातार फूलती-फलती जा रही है. यह तथ्य साबित करता है कि मोदी सरकार की नीति और कार्यकलाप पाक-साफ नहीं होकर काफी जुगाड़ तथा गड़बड़ घोटाले वाली है. अपनी इन कमियों पर पर्दा डालने के लिए ही इन्होंने द्वेष, नफरत तथा जातिवादी राजनीति अपनाई है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi