S M L

दिल्ली में बीजेपी और ‘आप’ धरना-प्रदर्शन के जरिए क्यों दिखाना चाह रहे हैं दम?

कांग्रेस का आरोप है कि दोनों ही पार्टी सरकार में हैं. केंद्र में बीजेपी और राज्य में आम आदमी पार्टी लेकिन जनता का कामकाज करने के बजाए ये दोनों धरना-प्रदर्शन में लग गए हैं.

Ravishankar Singh Ravishankar Singh Updated On: Jun 13, 2018 08:31 PM IST

0
दिल्ली में बीजेपी और ‘आप’ धरना-प्रदर्शन के जरिए क्यों दिखाना चाह रहे हैं दम?

पिछले तीन दिनों से देश की राजधानी दिल्ली में एक नया राजनीतिक ड्रामा देखने और सुनने को मिल रहा है. दिल्ली के एलजी हाउस में सीएम केजरीवाल सहित तीन मंत्रियों का धरना और अनशन तो दूसरी तरफ बीजेपी का सीएम हाउस में धरना और प्रदर्शन से दिल्ली की जनता बेहाल है.

एक तरफ आम आदमी पार्टी का आरोप है कि दिल्ली सरकार के कामकाज में आईएएस अफसरों के अड़ियल रवैये से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है वहीं दूसरी तरफ बीजेपी इसे अरविंद केजरीवाल का नौटंकी करार दे रही है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसके विरोध में अपनी आधी कैबिनेट के साथ धरने पर बैठे हुए हैं.

पिछले कई दिनों से एलजी से दो-दो हाथ करने की फिराक में आम आदमी पार्टी थी. उधर एलजी से दो-दो हाथ करने के आम आदमी पार्टी के फैसले का जवाब देने के लिए दिल्ली बीजेपी के नेताओं ने भी देरी नहीं की और सासंद प्रवेश वर्मा सहित विधायक दल के नेता विजेंद्र गुप्ता अपने तीन विधायकों के साथ केजरीवाल की तर्ज पर ही सीएम हाउस में धरना देने पहुंच गए. मामला विशुद्ध राजनीतिक है लिहाजा आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है.

yashwant sinha

आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन में शामिल हुए यशवंत सिन्हा

सरकार कौन चला रहा है, कैसे चला रहा है, इस मुद्दे पर न तो आम आदमी पार्टी और न ही बीजेपी चिंतित है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि बीजेपी के इशारे पर एलजी अनिल बैजल आईएस अफसरों को शह दे रहे हैं और सरकार चलाने में कोई मदद नहीं कर रहे हैं. उधर बीजेपी का कहना है कि अफसरों के साथ बर्ताव सही नहीं होने के कारण कोई भी अफसर मंत्रियों के साथ काम करने में सहजता नहीं महसूस कर रहा है. मालूम हो कि चार महीने पहले मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट घटना के बाद से ही दिल्ली सरकार के कामकाज पर असर पड़ना शुरू हो गया था.

2019 में चुनाव होना है लिहाजा आम आदमी पार्टी अपने आप को अब कामकाज के बजाए धरना प्रदर्शन के जरिए जनता में पैठ बनाने की कोशिश कर रही है. आम आदमी पार्टी के बागी नेता कपिल मिश्रा के मुताबिक एलजी हाउस में धरना और अनशन सिर्फ ड्रामेबाजी है. अगर अफसर काम नहीं करते हैं तो इसके लिए विधानसभा में बहस करानी चाहिए थी. कपिल मिश्रा ने कहा कि दिल्ली की जनता का विश्वास केजरीवाल की टीम खो चुकी है इसलिए केवल सुर्खियों में रहने के लिए केजरीवाल ऐसा कर रहे हैं.

उपराज्यपाल की चुप्पी और अफसरशाही का फीताशाही ने पूरी तरह से दिल्ली को मीडिया और सोशल मीडिया का अखाड़ा बना दिया है. जानकारों की मानें तो ये खेल विशुद्ध रूप से चुनावी वैतरणी पार करने के लिए शुरू किया गया है. दिल्ली का पूर्ण राज्य का दर्जा देना या दिलवाना किसी पार्टी का मुख्य एजेंडा न था और न है. दरअसल 2019 में होने वाले चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी और बीजेपी दोनों में होड़ मची हुई है.

उधर दिल्ली के कई इलाकों में पानी का संकट गहराने से लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है. बुधवार सुबह संगम विहार से आए कुछ लोगों ने अरविंद केजरीवाल का सरकारी आवास पर जमकर हंगामा काटा और कहा कि स्थानीय विधायक लोगों की सुनते नहीं है.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ दिल्ली विधानसभा में प्रदर्शन किया. मनोज तिवारी सहित बीजेपी के तमाम नेता सड़क पर उतर रहे हैं. बीजेपी नेताओं का आरोप है कि दिल्ली के सीएम से आधा भी काम नहीं हो रहा है और मांग रहे पूर्ण राज्य. दूसरी तरफ एलजी के असहयोग रवैये के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने भी आज एलजी हाउस तक मार्च निकाला. आम आदमी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता इस मार्च में भाग लिया. हालांकि दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी के इस मार्च को आधे रास्ते से ही वापस कर दिया.

अनिल बैजल

अनिल बैजल

कुल मिलाकर दिल्ली की राजनीति में धरना-प्रदर्शन का दौर एक बार फिर शुरू हो गया है. हालांकि बुधवार शाम एलजी अनिल बैजल की गृह सचिव से मुलाकात की खबर है. राजनीतिक गलियारे में कयास लगाए जा रहे हैं कि एलजी की गृह सचिव से मुलाकात दिल्ली की मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर ही हुई है. उधर कांग्रेस का आरोप है कि दोनों पार्टी आप और बीजेपी एक दूसरे के खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर दिल्ली की जनता को बरगलाने का काम कर रही है. कांग्रेस का आरोप है कि दोनों ही पार्टी सरकार में है केंद्र में बीजेपी और राज्य में आम आदमी पार्टी लेकिन जनता का कामकाज करने के बजाए ये दोनों धरना-प्रदर्शन में लग गए हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi