S M L

बिहार: राहुल गांधी की रैली के बाद होगा गठबंधन में सीट शेयरिंग का ऐलान

सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ हफ्तों में हुई बातचीत के दौरान कांग्रेस ने अपने लिए 15 सीटों पर जोर दिया, लेकिन कई नए सहयोगियों के साथ आने के कारण RJD उसकी इस मांग पर तैयार नहीं है

Updated On: Jan 27, 2019 02:34 PM IST

Bhasha

0
बिहार: राहुल गांधी की रैली के बाद होगा गठबंधन में सीट शेयरिंग का ऐलान

लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में सीटों के बंटवारे पर बातचीत अब तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है लेकिन कांग्रेस को उम्मीद है कि तीन फरवरी को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली होने के बाद सीटों के तालमेल पर जल्द निर्णय हो जाएगा.

पार्टी ने गांधी मैदान में कांग्रेस अध्यक्ष की 'जन आकांक्षा रैली' के लिए RJD के तेजस्वी यादव और महागठबंधन के दूसरे प्रमुख नेताओं को आमंत्रित किया है.

महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर जारी बातचीत से अवगत एक कांग्रेस नेता ने कहा, 'अब तक की बातचीत में सीटों को लेकर सहमति नहीं बन सकी है. उम्मीद है कि कांग्रेस अध्यक्ष की रैली के बाद सीट बंटवारे से जुड़े मुद्दों को हल कर लिया जाएगा और जल्द निर्णय हो जाएगा.'

'विश्वास पर आधारित हैं गठबंधन'

उधर, कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने कहा, 'राहुल जी की रैली के बाद हम बैठेंगे और सीटों के बंटवारे के बारे में उचित समय पर घोषणा कर दी जाएगी. उन्होंने यह भी कहा, 'RJD के साथ गठबंधन को लेकर कोई दिक्कत नहीं है. हमारा गठबंधन विश्वास पर आधारित है. 1998 से हम साथ हैं.'

सूत्रों का कहना है कि पिछले कुछ सप्ताह में हुई बातचीत के दौरान कांग्रेस ने अपने लिए 15 सीटों पर जोर दिया, लेकिन कई नए सहयोगियों के साथ आने के कारण RJD उसकी इस मांग पर तैयार नहीं है.

दरअसल, इस बार कई और पार्टियां महागठबंधन में शामिल हैं. इनमें उपेंद्र कुशवाहा की RLSP, पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की पार्टी 'हम' , मुकेश साहनी की विकासशील इंसान पार्टी और शरद यादव की पार्टी लोकतांत्रिक जनता दल शामिल है. वाम दलों के भी महागठबंधन में शामिल होने के आसार हैं.

28 सालों बाद ऐतिहासिक रैली

इस बीच, कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत राहुल गांधी की रैली को सफल बनाने पर लगा दी है. पार्टी 28 सालों के बाद इस ऐतिहासिक मैदान में अपने दम पर कोई रैली करने जा रही है. गोहिल ने कहा, 'इस रैली के लिए हमने तेजस्वी यादव, मांझी और दूसरे सहयोगी दलों के नेताओं को आमंत्रित किया है.'

यह पूछे जाने पर कि क्या सीटों के बंटवारे पर निर्णय से पहले कांग्रेस इस रैली के जरिए शक्ति प्रदर्शन करने जा रही है, तो उन्होंने कहा, 'इस रैली का सीटों के बंटवारे से कोई लेनादेना नहीं है. हम सभी सहयोगियों को मिलकर बीजेपी से लड़ना है और उसे हराना है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi