S M L

लालू को फोन कर नीतीश ने पूछा हालचाल, तेजस्वी बोले- महागठबंधन में 'नो वेकेंसी'

अस्पताल में भर्ती लालू को नीतीश के फोन कर हालचाल पूछने से आरजेडी और जेडीयू के आपसी दुश्मनी भुलाकर फिर साथ आने को लेकर चर्चा शुरू हो गई है

Updated On: Jun 27, 2018 10:33 AM IST

FP Staff

0
लालू को फोन कर नीतीश ने पूछा हालचाल, तेजस्वी बोले- महागठबंधन में 'नो वेकेंसी'

एक अरसे के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पूर्व सहयोगी और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को याद किया है. सूत्रों के मुताबिक, इलाज के लिए मुंबई गए लालू यादव से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने फोन कर उनकी सेहत का हालचाल पूछा है.

नीतीश के फोन कॉल के साथ ही यह चर्चा भी शुरू हो गई है कि आरजेडी और जेडीयू आपसी दुश्मनी भुलाकर फिर साथ आ सकते हैं. हालांकि लालू के बेटे तेजस्वी यादव ने महागठबंधन में नीतीश की वापसी की अटकलों को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा, 'अब महागठबंधन में चाचा के लिए कोई जगह नहीं है.'

चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे लालू यादव स्वास्थ्य कारणों से जमानत पर जेल से बाहर हैं. उनका मुंबई के अस्पताल में इलाज चल रहा है. बीते रविवार को उनका एक ऑपरेशन किया गया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा लालू यादव का हालचाल पूछे जाने पर तेजस्वी यादव ने कहा कि रविवार को उनका (लालू यादव) का फिस्टुला का ऑपरेशन हुआ था, ऐसे में उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने के लिए कॉल किया था और कुछ नहीं. अस्पताल में भर्ती होने के 4 महीने बाद आश्चर्यजनक रूप से नीतीश जी को उनके खराब स्वास्थ्य के बारे में पता चला. मैं उम्मीद करता हूं कि वह महसूस करेंगे कि वो बीजेपी/एनडीए मंत्रियों के अस्पताल में लालू जी का हालचाल पूछने वाले अंतिम राजनेता हैं.

जमानत पर बाहर लालू यादव इलाज के लिए मुंबई के अस्पताल में हैं भर्ती 

बता दें कि चारा घोटाला मामले में दोषी ठहराए गए लालू यादव अभी हेल्थ चेकअप के लिए छह हफ्ते के लिए जमानत पर बाहर हैं. उनका इलाज मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में चल रहा है.

जानकारों का कहना है कि 2015 के विधानसभा चुनाव में लालू यादव ने जातिगत जनगणना और आरक्षण को अपना प्रमुख हथियार बनाया था. जिसमें एनडीए ऐसा उलझा कि महागठबंधन की सरकार बन गई. लेकिन चारा घोटाला मामले में जेल जाने के कारण लालू सक्रिय राजनीति से दूर हो गए हैं. इधर नीतीश कुमार ने चुनावी पिच पर फ्रंट फुट पर आकर बैटिंग करनी शुरू कर दी है.

जन्म से लेकर ग्रेजुएशन की पढ़ाई तक लड़कियों के लिए अनुदान राशि हो या एससी/एसटी हॉस्टल में पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट के लिए अनुदान राशि, नीतीश ने चुनाव के लिए मास्टरस्ट्रोक खेल दिया है. इसके साथ ही नीतीश ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग तेज कर दी है.

(साभार: न्यूज़18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi