S M L

बिहार उपचुनावः जेडीयू के जोकीहाट प्रत्याशी पर दर्ज हैं गैंगरेप और मर्डर के केस

गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुर्शीद आलम के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित किया, उन्होंने कहा कि प्रत्याशी का नाम स्थानीय लोगों के सुझाव से ही दिया गया है

FP Staff Updated On: May 25, 2018 03:48 PM IST

0
बिहार उपचुनावः जेडीयू के जोकीहाट प्रत्याशी पर दर्ज हैं गैंगरेप और मर्डर के केस

बिहार में स्वच्छ छवि और सुशासन बाबू के नाम से जाने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जोकीहाट उपचुनाव में एक ऐसे व्यक्ति को उम्मीदवार बनाया है, जिसपर गैंगरेप और हत्या जैसे गंभीर मामले सहित जिले के विभिन्न थानों में सात केस दर्ज है. यह सूचना जेडीयू प्रत्याशी मुर्शीद आलम ने अपने एफिडेविट में दिया है.

जेडीयू प्रत्याशी मुर्शीद आलम पर सबसे संगीन जुर्म गैंगरेप और हत्या का है. सिमराहा थाना कांड संख्या- 221/12 जिसमें भारतीय दंड विधान (आईपीसी) की धारा 376/406/420/34 के तहत मामला चल रहा है. जिसमें अन्य अभियुक्त के साथ एक नर्स के साथ गैंगरेप का केस चल रहा है. वहीं दूसरा बड़ा मामला हत्या का है जिसमें पलासी थाना कांड संख्या- 42/08 है. इसमें धारा 302 के तहत मामला चल रहा है.

संगीन मामले हैं जेडीयू प्रत्याशी के ऊपर

इसी तरह जेडीयू प्रत्याशी पर अन्य मामले भी चल रहे हैं. पहला मामला जोकीहाट थाना कांड संख्या- 212/10 है, जिसमें इनपर धारा 188 आईपीसी की धारा- 3, संपत्ति निवारण अधिनियम धारा- 3, बिहार संपत्ति निरूपण अधिनियम एवं धारा 3 प्रिवेंशन ऑफ पब्लिक प्रॉपर्टी एक्ट, निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर सरकारी एवं जन संपत्ति का क्षति किया गया था.

दूसरा मामला जोकीहाट थाना कांड संख्या – 218/10 जिसमें धारा 170 एवं 160 पीआर एक्ट आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन था. पलासी थाना कांड संख्या– 103/12, जिसमें धारा 147/148/323/149/341/325/435/ 504/ 34 में केस दर्ज है. इसमें मारपीट और घेरकर घर में आल लगा क्षति पहुंचाने का मामला है. पलासी थाना कांड संख्या- 44/07 में धारा 467/468/420/34 के तहत जालसाजी और ठगी शामिल है. पलासी थाना कांड संख्या -109/12 केस में धारा 420/406/409/12(B) में वादी के साथ धोखाधड़ी का मामला भी चल रहा है.

अतीत से हर कोई परिचित

इस केस के मामले पर जब जेडीयू नेता बिहार के पूर्व शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी से पूछा गया तो उन्होंने तिलमिलाते हुए तस्लीमुद्दीन के बैकग्राउंड की दुहाई दी. उन्होंने कहा कि अतीत से कौन परिचित नहीं है.

अररिया आरजेडी नेता कमाल हक ने कहा कि तस्लीमुद्दीन तो इस इलाके में सीमांचल के गांधी के नाम से जाने जाते रहेंगे, लेकिन बिहार के मुखिया सुशासन बाबू यह बताएं कि उन्होंने कैसे आदमी को अपना उम्मीदवार बनाया है जो गैंगरेप और हत्या जैसे गंभीर मामलों का आरोपी है.

दागदार प्रत्याशी के लिए नीतीश ने मांगा वोट

गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जेडीयू प्रत्याशी मुर्शीद आलम के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित भी किया. जिसमें उन्होंने यह भी कहा था कि प्रत्याशी का नाम स्थानीय लोगों के सुझाव से दिया गया था. इसके साथ ही उन्होंने मुर्शीद आलम को विजयी बनाने के लिए जनता से वोट भी मांगा.

जेडीयू प्रत्याशी मुर्शीद आलम पलासी प्रखंड के मियांपुर पंचायत के पूर्व मुखिया थे. जेडीयू के टिकट के लिए पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष नौशाद आलम, पूर्व मंत्री मंजर आलम सहित कई अन्य नामों की चर्चा जोरों पर थी, लेकिन नीतीश कुमार ने जोकीहाट से मुर्शीद आलम को उम्मीदवार बनाया है. जोकीहाट उपचुनाव के लिए 28 मई को वोटिंग है. आरजेडी ने तस्लीमुद्दीन के छोटे बेटे शाहनवाज आलम को उम्मीदवार बनाया है.

(न्यूज-18 के लिए सतीश कुमार की रिपोर्ट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi