S M L

तेजस्वी के घर आज होगी महागठबंधन की बैठक, सीट शेयरिंग को लेकर हो सकती है चर्चा

इस बैठक में सभी दलों के बीच औपचारिक सहमति बनने के बाद सीट साझेदारी के फार्मूले को आखिरी रूप दिया जा सकता है

Updated On: Jan 07, 2019 09:55 AM IST

FP Staff

0
तेजस्वी के घर आज होगी महागठबंधन की बैठक, सीट शेयरिंग को लेकर हो सकती है चर्चा

बिहार में महागठबंधन के दलों के नेताओं की पहली औपचारिक बैठक आज यानी सोमवार को पूर्व उपमुख्यमंत्री और लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव के पटना स्थित आवास पर होगी. माना जा रहा है कि इस दौरान सीट शेयरिंग को लेकर भी चर्चा हो सकती है.

कौन-कौन होगा बैठक में शामिल?

तेजस्वी के आवास पर महागठबंधन दलों की ये बैठक शाम 6 बजे शुरू होगी. इसमें  RLSP प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, लोकतांत्रिक जनता दल के अध्यक्ष शरद यादव और वीआईपी पार्टी के अध्यक्ष मुकेश सहनी के शामिल होने की संभावना है.

इस बैठक में महागठबंधन के दलों के नेताओं के बीच लोकसभा चुनाव को लेकर बिहार की 40 सीटों पर आपस में चर्चा होने की संभावना जताई जा रही है. इस बैठक में सभी दलों के बीच औपचारिक सहमति बनने के बाद सीट साझेदारी के फार्मूले को आखिरी रूप दिया जा सकता है.

नेताओं ने की लालू यादव से मुलाकात

इससे पहले शनिवार को कुशवाहा, मांझी और शरद यादव रांची जाकर में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद से मुलाकात कर चुके हैं. कांग्रेस नेताओं में पार्टी के झारखंड प्रभारी सुबोधकांत सहाय और बिहार कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद भी लालू से मिल चुके हैं.

महागठबंधन लगातार विरोधियों के निशाने पर

एनडीए के बिहार में सीट साझेदारी की घोषणा के बाद से सीट शेयरिंग को लेकर महागठबंधन लगातार विरोधियों के निशाने पर है. लालू प्रसाद यादव से घटक दलों के नेताओं की मुलाकात के बाद विपक्ष ने राजनीतिक हमले और भी तेज कर दिए हैं.

तेजस्वी के आवास पर सोमवार को प्रस्तावित बैठक को महागठबंधन की सीट बंटवारे पर फार्मूला तय कर अपने विरोधियों का मुंह बंद करने की एक कोशिश के रूप में देखा जा रहा है.

14 जनवरी तक हो सकती है सीट शेयरिंग पर घोषणा

महागठबंधन सूत्रों के मुताबिक आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर  झारखंड हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है, ऐसे में अंतिम तौर पर सीट शेयरिंग को उनकी रिहाई तक टाला जा सकता है, लेकिन 14 जनवरी को खरमास खत्म होने के बाद इसको लेकर औपचारिक घोषणा हो सकती है.

इस बीच, जीतन राम मांझी ने कहा कि, 'गठबंधन में सभी घटकों को कुछ बलिदान करने के लिए तैयार रहना होगा. हम लोकसभा सीटों की किसी विशेष संख्या पर जोर नहीं दे रहे हैं पर हम बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से कम से कम 20 में अच्छी स्थिति में हैं, हम महागठबंधन की जीत के लिए काम करेंगे.'

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi