S M L

सरकार सबूत दे, नहीं तो ये गिरफ्तारियां इमरजेंसी में हुई कार्रवाई के समान मानी जाएंगी: JDU

पवन वर्मा ने कहा है कि सरकार को इन गिरफ्तारियों में आरोपियों के खिलाफ सबूत पेश करने होंगे

Updated On: Aug 29, 2018 01:10 PM IST

FP Staff

0
सरकार सबूत दे, नहीं तो ये गिरफ्तारियां इमरजेंसी में हुई कार्रवाई के समान मानी जाएंगी: JDU

भीमा कोरेगांव हिंसा से जुड़ी 5 बड़े बुद्धिजीवियों की गिरफ्तारियों पर राजनीतिक प्रतिक्रिया भी आ रही है. राहुल गांधी ने सरकार पर तीखा हमला बोला है तो एनडीए की साझीदार जेडीयू ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है. जेडीयू नेता पवन वर्मा ने इस मामले पर नपा तुला बयान दिया है लेकिन वो सरकार का समर्थन करने से बचते दिखे हैं.

एएनआई से बात करते हुए पवन वर्मा ने कहा है कि सरकार को इन गिरफ्तारियों में आरोपियों के खिलाफ सबूत पेश करने होंगे. अगर आरोपियों के खिलाफ नक्सली गतिविधि में शामिल होने का सबूत पेश करने में सरकार नाकाम रहती है तो ये अभिव्यक्ति की आजादी के खिलाफ कदम माना जाएगा.

उन्होंने कहा है कि ऐसा होने पर इसे संवैधानिक अधिकारों का हनन माना जाएगा. थोड़ा सख्त लहजे में उन्होंने कहा है कि अगर सरकार आरोपियों के नक्सली गतिवविधि में संलिप्त रहने के सबूत नहीं पेश कर पाती है तो सरकार की ये कार्रवाई इमरजेंसी के दौरान हुई कार्रवाई के समान मानी जाएगी. जेडीयू एनडीए में साझीदार है. हालांकि कई मुद्दों पर वो सरकार के फैसलों की आलोचना करती रही है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi