S M L

बंगलुरु छेड़छाड़ मामला: अबु आज़मी के बेतुके बयान पर नोटिस

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने बताया है कि दोनों नेताओं को आयोग को नोटिस दिया है.

Updated On: Jan 03, 2017 08:17 PM IST

FP Staff

0
बंगलुरु छेड़छाड़ मामला: अबु आज़मी के बेतुके बयान पर नोटिस

बंगलुरु में नया साल मना रही महिलाओं से छेड़छाड़ की घटना को तीन दिन हो गए हैं. घटना के आरोपी खुलेआम घूम रहे हैं. ऊपर से कर्नाटक के गृहमंत्री जी. परमेश्वरा और एसपी नेता अबु आज़मी जैसे नेता पीड़ित महिलाओं को ही इसका जिम्मेदार बता रहे हैं.

अबु आज़मी ने कहा कि ऐसी घटनाएं महिलाओं के मॉडर्न पहनावे के कारण होती हैं. उन्होंने अपने बयान में कहा, 'भाई या पति के बिना लड़की देर रात नया साल मनाने क्लब में जाएगी तो इसे सही कैसे ठहरा सकते हैं. ऐसे में उसकी सुरक्षा को लेकर खतरा होगा ही. आखिर गैर मर्द के साथ नया साल मनाने को कैसे सही कह सकते हैं.'

महिलाओं की तुलना शक्कर और पेट्रोल से की 

एसपी नेता ने लड़कियों की तुलना शक्कर और पेट्रोल से करते हुए कहा कि जहां शक्कर होगा वहां चींटियां आएगी हीं और जहां पेट्रोल होगा वहां आग लगेगी ही.

अबु आज़मी महाराष्ट्र में समाजवादी पार्टी के प्रमुख चेहरा हैं. वे महाराष्ट्र की मानखुर्द शिवाजी नगर विधानसभा से विधायक भी हैं.

एसपी नेता इतने भर से चुप नहीं रहे. उन्होंने पीड़ित महिलाओं के जले पर नमक छिड़कते हुए एएनआई से कहा कि आज मॉडर्न जमाने में औरत जितनी नंगी नजर आती है, उसे उतना ही फैशनेबल कहा जाता है. यह भारतीय संस्कृति पर एक बड़ा धब्बा है.’

इससे पहले कर्नाटक के गृहमंत्री जी. परमेश्वरा ने भी इसी तरह का बयान दिया था. उन्होंने एएनआई से कहा कि क्रिसमस और नए साल पर इस तरह की घटनाएं आम हैं.

कर्नाटक के गृहमंत्री ने भी महिलाओं के साथ छेड़छाड़ के लिए पश्चिमी पहनावे को जिम्मेदार ठहराया.

राष्ट्रीय महिला आयोग हुआ सख्त 

कर्नाटक के गृहमंत्री और एसपी नेता अबु आज़मी के बयानों की कड़ी आलोचना हो रही है. राष्ट्रीय महिला आयोग ने दोनों नेताओं को नोटिस भेजा है.

राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने बताया है कि दोनों नेताओं को आयोग को नोटिस दिया है. ललिता ने कहा कि कुछ लोग एकदम बेहूदा बातें कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों का इस तरह के बयान देना बेहद शर्मनाक है.

इससे पहले सोशल मीडिया के जरिए यह घटना सामने आई थी. नए साल का जश्न मनाकर लौट रही महिलाओं के साथ बंगलुरु के एमजी रोड, स्ट्रीट रोड और ब्रिगेड रोड पर शोहदों ने छेड़छाड़ की थी. तीन दिन बाद भी कोई एफआईआर दर्ज नहीं हुई है.

इस पूरे घटनाक्रम पर कर्नाटक राज्य महिला आयोग गंभीर हुआ है और बंगलुरु पुलिस से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है.

दूसरी ओर पुलिस कमिश्नर प्रवीण सूद ने बताया कि अभी तक इस मामले में कोई शिकायत नहीं की गई है. अगर हमें शिकायत मिलती है तो हम तुरंत कार्रवाई करेंगे. हम सीसीटीवी फुटेज की जांच कर रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi