live
S M L

राहुल-मोदी में हुई डील, पार्टियों के कालेधन की हो जांच: केजरीवाल

केजरीवाल ने मांग रखी कि राजनीतिक पार्टियों को फंडिंग के स्रोत की जांच के लिए आयोग बने.

Updated On: Dec 17, 2016 12:34 PM IST

Pawas Kumar

0
राहुल-मोदी में हुई डील, पार्टियों के कालेधन की हो जांच: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मांग रखी है कि राजनीतिक पार्टियों को मिल रही फंडिंग के स्रोत की जांच करने के लिए आयोग गठित किया जाए. केजरीवाल का यह बयान सरकार के उस घोषणा के बाद एक दिन बाद आया है कि राजनीतिक पार्टियों के बैंक खातों पर कोई टैक्स नहीं लगेगा. केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह मांग रखी.

केजरीवाल ने कहा कि नोटबंदी के बाद से जितने पैसे राजनीतिक पार्टियों ने जमा कराए हैं, उसे सार्वजनिक किया जाए.

सरकार ने कहा है कि राजनीतिक पार्टियों पर 1000 और 500 के पुराने नोट अपने खाते में जमा करने पर टैक्स नहीं लगेगा. सरकार के फैसले पर सवाल उठाते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘बीजेपी को किस बात से डर लग रहा है? उनके इनकम टैक्स की जांच क्यों नहीं होनी चाहिए?’ केजरीवाल ने मांग की कि एक स्वतंत्र कमिटी सभी राजनितिक पार्टियों के पैसे की जांच करें.

केजरीवाल ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी और राहुल गांधी के बीच में कोई डील हुई है.

केजरीवाल ने कहा, ‘राहुल गांधी प्रधानमंत्री मोदी से मिलने पहुंचे थे, उसके बाद ये घोषणा हुई है. राहुल ने पहले कहा था कि उनके पास पीएम मोदी के खिलाफ सबूत है. राहुल सिर्फ कह रहे हैं कि मुंह खोल दिया तो भूचाल आ जाएगा. तो क्या इन दोनों ने मिलकर कोई डील की है?’

राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने शुक्रवार को कहा था कि अगर पैसा किसी राजनीतिक पार्टी के अकाउंट में जमा हो तो वह टैक्स से छूट पाएगा. लेकिन अगर पैसा किसी व्यक्ति के अकाउंट में जमा हो तो उस जानकारी पर नजर रखी जाएगी. वित्त मंत्रालय ने कहा है कि राजनीतिक पार्टियों को टैक्स छूट मौजूदा नियमों पर निर्भर करेगी.

फिलहाल इनकम टैक्स एक्ट सेक्शन 13ए के मुताबिक, राजनीतिक पार्टियों को आयकर छूट मिलती है बशर्ते वह 20000 रुपए से अधिक चंदा देने वालों के रिकॉर्ड और अकाउंट बुक रखें.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi