S M L

आप धरना: नीति आयोग की बैठक से पहले 4 मुख्यमंत्री उतरे केजरीवाल के समर्थन में, कहा- PM करें दखल

चारों मुख्यमंत्रियों ने अरविंद केजरीवाल से मिलने का वक्त मांगा था, लेकिन उन्हें समय नहीं दिया गया. इसके बाद उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल को पत्र लिखकर समय मांगा है

Updated On: Jun 16, 2018 11:10 PM IST

FP Staff

0
आप धरना: नीति आयोग की बैठक से पहले 4 मुख्यमंत्री उतरे केजरीवाल के समर्थन में, कहा- PM करें दखल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन राजनिवास में धरने पर बैठे छह दिन हो गए हैं.

मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन ने अनिश्चितकालीन अनशन भी शुरू कर दिया है, लेकिन अभी तक इसका कोई असर नौकरशाही पर नहीं दिख रहा है. शनिवार को इसी क्रम में अरविंद केजरीवाल के समर्थन करने चार राज्यों के मुख्यमंत्री दिल्ली पहुंचे. इसमें ममता बनर्जी, कुमारस्वामी, चंद्रबाबू नायडू और पिनराई विजयन शामिल हैं. इन चारों मुख्यमंत्रियों ने अरविंद केजरीवाल के घर पहुंचकर उनके पत्नी के मुलाकात की.

चारों मुख्यमंत्रियों ने एलजी से अरविंद केजरीवाल से मिलने का वक्त मांगा था, लेकिन उन्हें समय नहीं दिया गया क्योंकि केजरीवाल एलजी हाउस में धरना दे रहे हैं. इसके बाद उन्होंने दिल्ली के उपराज्यपाल को पत्र लिखकर उनसे भी मिलने का समय मांगा. लेकिन एलजी ने मुख्यमंत्रियों खुद से मिलने का भी वक्त नहीं दिया.

इसके बाद चारों मुख्यमंत्रियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. जिसमें चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि एलजी और केंद्र दिल्ली की सरकार को काम करने दें. उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य को मिलकर काम करना चाहिए. हमने केंद्र सरकार से अपील की है कि वो दिल्ली सरकार को काम करने दें.

कर्नाटक के सीएम एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि हम दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल का समर्थन करने आए हैं. पीएम इस मामले में हस्तक्षेप करके इसे सुलझाएं.

ममता बनर्जी ने कहा कि हम यहां केजरीवाल का समर्थन करने आए हैं. यह बहुत ही शर्मनाक है कि एलजी ने मिलने के लिए कुछ मिनटों का भी वक्त नहीं दिया. दिल्ली सरकार का काम 4 महीने से रूका है. ममता ने कहा कि कुछ चीजें राजनीति से हटकर भी होती है. ममता बनर्जी ने कहा कि हम प्रधानमंत्री से कहेंगे कि वो इस मामले को सुलझाने केलिए इसमें हस्तक्षेप करें. अगर राष्ट्रपति देश में अभी मौजूद होते तो हम उनसे भी यही कहते. यही लोकतंत्र है और लोकतंत्र ऐसे ही काम करता है.

ममता बनर्जी ने कहा 'हम किसी पर भी आरोप नहीं लगाना चाहते, हम यहां मुद्दे के समाधान के लिए आए हैं. दिल्ली में 2 करोड़ लोग हैं. पिछले चार महीने से पूरा काम खराब हो रहा है, इस पर कुछ भी नहीं किया गया. उपराज्यपाल नियुक्त किए गए लीडर हैं.'

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा 'यह एक संवैधानिक संकट है. लेकिन ऐसा कोई संकट कभी नहीं होना चाहिए जिसके कारण एक सरकार और आम लोगों को भुगतना पड़ता है.'

केजरीवाल ने ट्वीट करके चारों मुख्यमंत्रियों को समर्थन के लिए धन्यवाद दिया है.

इससे पहले 17 जून को होने वाली नीति आयोग की बैठक से पहले चारों मुख्यमंत्रियों ने रणनीति बनाने के लिए आंध्र भवन में बैठक की. इस बैठक के बाद चारों मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर गए और उनके परिवार के लोगों और आप नेताओं से मुलाकात की.

पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने भी ट्वीट करके केजरीवाल के धरने का समर्थन किया है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi