S M L

दिल्ली किसी की संपत्ति नहीं, जनता करेगी पूर्ण राज्य पर फैसला: केजरीवाल

केजरीवाल ने दावा किया कि पिछले 70 साल से दिल्ली के लोगों का शोषण किया गया और उन्हें धोखा दिया गया है

Updated On: Mar 14, 2019 12:19 PM IST

Bhasha

0
दिल्ली किसी  की संपत्ति नहीं, जनता करेगी पूर्ण राज्य पर फैसला: केजरीवाल

आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी किसी व्यक्ति या पार्टी की संपत्ति नहीं है और दिल्ली के लोग ‘पूर्ण राज्य’ के मुद्दे पर फैसला करेंगे.

‘आप’ ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिए जाने को आगामी लोकसभा चुनावों के लिए अपना सबसे बड़ा मुद्दा बनाया है.

केजरीवाल और ‘आप’ नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ITO स्थित अपने दफ्तर के बाहर BJP का 2014 का घोषणा-पत्र जलाया. इस घोषणा-पत्र में BJP ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने का वादा किया था.

इस बीच, केंद्रीय मंत्री विजय गोयल की अगुवाई में BJP कार्यकर्ताओं ने भी ‘आप’ के घोषणा-पत्र और इसके ‘नाकाम’ वादों की एक सांकेतिक मीनार को जलाया और केजरीवाल की पार्टी पर दिल्ली के लोगों को धोखा देने का आरोप लगाया.

मीडिया को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने दावा किया कि पिछले 70 साल से दिल्ली के लोगों का शोषण किया गया और उन्हें धोखा दिया गया है. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बयान दिया था कि कि राष्ट्रीय राजधानी को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं दिया जा सकता क्योंकि इसके मुख्यमंत्री ने रेल भवन के सामने धरना दिया था.

‘आप’ प्रमुख ने कहा, ‘तिवारी कहता है कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं दिया जा सकता क्योंकि मैं धरना पर बैठ गया था. तुम्हारे बाप की दिल्ली है? तुम होते कौन हो?’ केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली किसी व्यक्ति या पार्टी की संपत्ति नहीं है.

दूसरी ओर,‘आप’ और BJP नेताओं के बीच बुधवार को ट्विटर पर तीखे आरोप प्रत्यारोप के कई घंटों तक चले सिलसिले में आरोपों के तीर जातिगत स्तर तक जा पहुंचे.

सोशल मीडिया की इस गहमा गहमी में एक तरफ आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल और BJP विधायक विजेन्द्र गुप्ता ने मोर्चा संभाला, वहीं दूसरी ओर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और बीजेपी के प्रवक्ता हरीश खुराना ने एक दूसरे पर आरोपों के जमकर तीर चलाए. दोनों पक्षों के बीच तीखी बहस का मुद्दा दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग और दिल्ली सरकार की उपलब्धियां से जुड़ा था.

इसकी शुरुआत दोपहर दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुप्ता द्वारा केजरीवाल पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाने से हुई. गुप्ता के हवाले से दिल्ली BJP द्वारा ट्वीट कर कहा गया, ‘केजरीवाल जी आपकी ओछी हरकतों, झूठ और फरेब की राजनीति से पता चलता है कि आप किस खानदान से हैं.’

उधर केजरीवाल ने गुप्ता के आरोप को ‘जातिगत हमला’ बताते हुए ट्विटर पर कहा, ‘विजेंदर जी, आपकी मुझसे लड़ाई है. जो कहना है मुझे कहिए, मेरे खानदान को गाली मत दीजिए. मैं अग्रवाल खानदान से हूं और इस बात का मुझे गर्व है. अग्रवाल समाज ने देश की तरक्की में अहम भूमिका निभाई है. अपनी गंदी राजनीति में अग्रवाल समाज को मत घसीटिए.’

गुप्ता ने जवाबी ट्वीट में कहा, ‘केजरीवाल जी मैं भी अग्रवाल समाज से आता हूं. हमारे पूर्वज महाराजा अग्रसेन, युग पुरुष, रामराज्य के समर्थक और महादानी और समाजवाद के प्रथम प्रणेता थे. लेकिन आपकी हरकतों ने हम अग्रबन्धुओं को शर्मसार किया है. अपनी गंदी राजनीति के लिए महाराजा अग्रसेन जी की विरासत का इस्तेमाल मत करो.’

इस दौरान दिल्ली सरकार की उपलब्धियों के मुद्दे पर सिसोदिया और खुराना के बीच भी ट्विटर पर कई घंटों तक आरोपों का दौर चला. सिसोदिया ने आप सरकार के कामों का हवाला देते हुए बीजेपी पर पूर्ण राज्य के मुद्दे पर जनता से झूठ बोलने का आरोप लगाया.

सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा, ‘जो वादे चुनाव में किए उससे ज्यादा काम हो रहा है दिल्ली में हरीश खुराना जी! लेकिन पूर्ण राज्य का वादा तो आपके मेनिफेस्टो में था उस पर आप लोगों ने यू-टर्न क्यों ले लिया?’

इसके जवाब में खुराना ने कहा, ‘जो चीज़ तुम्हारे पास है नहीं, उसका रोना रो रहे हो और जो है उससे भी बहुत कुछ किया जा सकता था, लेकिन हुआ नहीं. जब आप सत्ता में आए थे आपको पता था ना, आपके पास क्या अधिकार हैं? अब वादे पूरे नहीं हुए तो बहाना. सिसोदिया, चुनाव के पास ही क्यों पूर्ण राज्य की मांग, पहले क्यों नहीं?’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi