S M L

केजरीवाल की अपील: काम पर लौटें सभी IAS अधिकारी, मिलेगी पूरी सुरक्षा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर आईएएस अधिकारियों ने अपील की कि वह सब काम पर आएं. उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है

Updated On: Jun 17, 2018 11:06 PM IST

FP Staff

0
केजरीवाल की अपील: काम पर लौटें सभी IAS अधिकारी, मिलेगी पूरी सुरक्षा
Loading...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन IAS अधिकारियों की स्ट्राइक के खिलाफ राजनिवास में धरने पर बैठे हुए हैं. इसी क्रम में रविवार को आम आदमी पार्टी ने मंडी हाउस से संसद मार्ग तक प्रोटेस्ट मार्च किया. इस प्रदर्शन में आप नेता संजय सिंह, आशीष खेतान समेत अन्य बड़े नेता भी मौजूद थे.

यह प्रोटेस्ट मंडी हाउस से पीएमओ तक था, लेकिन पुलिस ने इस प्रोटेस्ट की इजाजत नहीं दी थी. जिसके चलते आप नेता संजय सिंह ने इसे संसद मार्ग थाने पर ही खत्म कर दिया.

ऐसे में नीति आयोग की बैठक में भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल नहीं गए. उनकी जगह दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को इस बैठक में जाना था, लेकिन वह भी इस बैठक में शामिल नहीं हुए. इसमें अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हुए थे.

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी थी. दीक्षित ने केजरीवाल सरकार को नसीहत देते हुए कहा था कि दिल्ली सरकार को नियम के तहत काम करना चाहिए.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी अन्य तीन राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ मिलकर प्रधानमंत्री मोदी से दिल्ली सरकार की समस्याओं के समाधान के लिए गुजारिश की.

आम आदमी पार्टी के इस विरोध मार्च का वामपंथी नेता सीताराम येचुरी ने भी समर्थन किया था और इसमें हिस्सा भी लिया. वह संजय सिंह के साथ गाड़ी पर मौजूद थे.

आप के विरोध मार्च को देखते हुए येलो लाइन पर चार मेट्रो स्टेशन (लोक कल्याण मार्ग, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय और उद्योग भवन) और जनपथ स्टेशन 2 बजे से बंद कर दिए थे.

इंटीग्रेटेड मेडिकल एसोसिएशन (AYUS) ने भी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल का समर्थन किया था.

अरविंद केजरीवाल के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए आईएएस एसोसिएशन की हेड मनीषा सक्सेना का भी बयान आया. उन्होंने कहा था, 'मैं यह बताना चाहूंगी कि हम लोग हड़ताल पर नहीं है. दिल्ली में आईएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं, यह खबर बिल्कुल झूठी है. हम हर विभाग की बैठक में हिस्सा ले रहे हैं और अपना काम कर रहे हैं. कभी-कभी हम छुट्टी के दिन भी काम करते हैं.'

आईएएस अधिकारी के ताजा बयान पर आम आदमी के राघव चड्ढा का कहा था कि आईएएस अधिकारियों को जब बैठक में बुलाया जाता है तो वे नहीं आते हैं. अगर वो लोग काम कर रहे हैं तो ये बताएं कि किसके कहने पर काम कर रहे हैं.

आम आदमी पार्टी के प्रोटेस्ट में नारेबाजी भी जमकर हुई. भीड़ में लोग नारे लगा रहे हैं- 'मोदी तेरी तानाशाही नहीं चलेगी-नहीं चलेगी, एलजी को जाना होगा, दिल्ली से बदला लेना बंद करो, एलजी साहब आईएएस की हड़ताल खत्म करो.'

दिल्ली बीजेपी ने इसे राजनीतिक स्टंट करार दिया है. उन्होंने इसे 2019 लोकसभा चुनाव में एंटी बीजेपी, एंटी नरेंद्र मोदी फ्रंट बनाने के लिए एक ड्रामा बताया है.

दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा 'यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि चार राज्यों के मुख्यमंत्री 'आप' चीफ के इस ड्रामे का समर्थन कर रहे हैं.'

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा '10 लाख लोगों से हस्ताक्षर अभियान करवाएंगे. दिल्ली की जनता से बात करेंगे और आंदोलन को व्यापक रूप देंगे. हम आंदोलन अपना समाप्त करते हैं.'

इस सबके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर आईएएस अधिकारियों ने अपील की कि वह सब काम पर आएं. उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है. उन्होंने लिखा 'ऑफिसर मेरे परिवार का हिस्सा है. मैं उनसे अपील करता हूं कि चुनी हुई सरकार का बहिष्कार ना करें और मंत्रियों की सभी मीटिंग अटेंड करें.'

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi