S M L

कैबिनेट में फेरबदल: पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का जिम्मा, I&B मंत्रालय से स्मृति ईरानी की छुट्टी

गोयल अरुण जेटली के ठीक होने तक रेल मंत्रालय के साथ-साथ वित्त मंत्रालय भी देखेंगे

Updated On: May 14, 2018 10:01 PM IST

FP Staff

0
कैबिनेट में फेरबदल: पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय का जिम्मा, I&B मंत्रालय से स्मृति ईरानी की छुट्टी
Loading...

केंद्रीय कैबिनेट में बड़ा फेरबदल किया गया है. सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार मौजूदा रेल मंत्री पीयूष गोयल को दे दिया. गोयल अरुण जेटली के ठीक होने तक रेल मंत्रालय के साथ-साथ वित्त मंत्रालय भी देखेंगे.

वहीं, केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर को सूचना और प्रसारण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दे दिया गया है. यह जिम्मेदारी अब तक केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के पास थी. स्मृति ईरानी के पास अब सिर्फ कपड़ा मंत्रालय ही रहेगा.

यह दूसरा मौका है जब स्मृति ईरानी के विवादों में फंसने के बाद उनके मंत्रालय में फेरबदल किया गया है. इससे पहले उनसे मानव संसाधन मंत्रालय छीनकर प्रकाश जावेड़कर को मानव संसाधन और विकास मंत्री बनाया गया था.  हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने स्मृति ईरानी को फेक न्यूज संबंधी विवादास्पद गाइडलाइन को वापस लेने का आदेश दिया था. इस गाइडलाइन के बारे में कहा जा रहा था कि यह प्रेस की स्वतंत्रता को खत्म करने का प्रयास है.

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने फेक न्यूज (फर्जी खबरों) पर अंकुश लगाने के उपायों के तहत बयान जारी कर कहा था कि अगर कोई पत्रकार फर्जी खबरें करता हुआ या इनका दुष्प्रचार करते हुए पाया जाता है तो उसकी मान्यता स्थायी रूप से रद्द की जा सकती है.

बयान में कहा गया था कि पत्रकारों की मान्यता के लिए संशोधित दिशा-निर्देशों के मुताबिक अगर फर्जी खबर के प्रकाशन या प्रसारण की पुष्टि होती है तो पहली बार ऐसा करते पाए जाने पर पत्रकार की 6 महीने के लिए मान्यता निलंबित की जाएगी. जबकि दूसरी बार ऐसा करते पाए जाने पर उसकी मान्यता 1 साल के लिए निलंबित की जाएगी. वहीं तीसरी बार अगर इसका उल्लंघन होता है तो पत्रकार (महिला/ पुरूष) की मान्यता स्थायी रूप से रद्द कर दी जाएगी.

पत्रकारों और मीडिया समूहों द्वारा विरोध के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने पूरे मामले में दखल देते हुए सूचना प्रसारण मंत्रालय को निर्देश दिया था कि 'फेक न्यूज़' को लेकर जारी की गई गाइडलाइन को वापस लिया जाना चाहिए. इस मामले को प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया पर छोड़ देना चाहिए, और वो ही इस पर सुनवाई और कार्रवाई करे.

इसके अलावा स्मृति ईरानी नेशनल अवार्ड के पुरस्कार वितरण को लेकर भी विवाद में फंस गई थीं. इसमें पुरस्कार वितरण को लेकर तब विवाद हो गया था, जब सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कहा कि सिर्फ 11 विजेताओं को ही राष्ट्रपति पुरस्कार देंगे. इसे लेकर अन्य विजेताओं ने इस समारोह का बहिष्कार कर दिया था.

राज्यवर्धन सिंह राठौर इससे पहले खेल मंत्रालय के स्वतंत्र प्रभार के साथ-साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का बतौर राज्यमंत्री कामकाज संभाल रहे थे. अब उनके पास सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का भी स्वतंत्र प्रभार होगा.

मोदी मंत्रिमंडल में किए गए तीसरे बदलाव के तहत केजे अल्फोंस जो अब तक टूरिज्म स्टेट मिनिस्टर के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफोर्मेशन स्टेट मिनिस्टर भी थे, उनके पास अब सिर्फ टूरिज्म मिनिस्ट्री ही रहेगा. राज्यमंत्री एसएस अहूलवालिया से ड्रिंकिंग एंड सेनिटेशन मिनिस्ट्री वापस लेकर उन्हें इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इंफोर्मेशन स्टेट मिनिस्टर बनाया गया है.

वित्त मंत्री बीते शनिवार को एम्स में भर्ती हुए थे. किडनी की बीमारी से जूझ रहे जेटली का बीते एक महीने से डायलिसिस हो रहा था. इसके लिए वो समय-समय पर एम्स चेकअप के लिए आते रहते थे.

इस बीमारी की वजह से जेटली ने लंदन में होने वाले 10वें भारत-ब्रिटेन आर्थिक और वित्तीय वार्ता में शामिल होने का अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया था.

6 अप्रैल को जेटली ने एक ट्वीट कर अपनी बीमारी के बारे में बताया था.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi